भारत और हिन्दुओं के खिलाफ 'अल जजीरा' ने फिर उगला जहर, जानिए क्या बोला 'आतंक' समर्थित मीडिया ?

नई दिल्ली: अक्सर भारत और हिन्दू विरोधी लेख लिखकर प्रोपेगेंडा फैलाने वाले अल जजीरा (al jazeera on hindu nationalism) ने एक बार फिर हिन्दू धर्म को लेकर जहर उगला है। अलजजीरा (al jazeera on hindu nationalism) में छपे एक आर्टिकल में हिंदू राष्ट्रवाद को पूरे विश्व के लिए एक नई समस्या बताया गया है। इसमें विवादित वेबसाइट ने भारतीय पीएम नरेंद्र मोदी, भाजपा और विश्व हिंदू परिषद (VHP) को हिंदू राइट विंग के प्रसार के लिए जिम्मेदार करार दिया है। यही नहीं, अल जजीरा ने हाल ही में ब्रिटेन के लीसेस्टर में कट्टरपंथी मुस्लिमों द्वारा हिन्दुओं पर किए गए हमले के पीछे भी इसे ही वजह माना है। अल जजीरा (al jazeera on hindu nationalism) ने कहा है कि हिंदुत्व का प्रचार, राजनीतिक विचारधारा बिल्कुल नए अंदाज में सामने आ रही है और इसकी जड़ें भारतीय शहरों की गलियों में होने वाली हिंसा से जुड़ी हुईं हैं। 

सबसे ज्यादा हैरान करने वाली बात तो यह है कि, यह आर्टिकल किसी और ने नहीं, बल्कि एक भारतीय मूल के शख्स और धर्म से संभवतः हिन्दू सोमदीप सेन ने लिखा है। सोमदीप डेनमार्क की रोसकिल्डे यूनिवर्सिटी में इंटरनेशनल डेवलपमेंट स्टडीज पढ़ाते हैं। उन्होंने अल जजीरा  के अपने लेख (al jazeera on hindu nationalism) में लिखा है कि 17 सितंबर को लिसेस्टर की गलियों में एक युवा हिंदू जय श्रीराम के नारे लगाता हुआ आगे बढ़ता है। यह नारा अब हिंदू राष्ट्रवादियों का युद्धघोष की तरह हो गया है। सोमदीप ने लिखा है कि यही वह हट्टा-कट्टा हिंदू गर्व और अंध-देशभक्ति है, जिसकी अपेक्षा हिंदू राष्ट्रवादी सदा से करते आ रहे हैं। 

अल जजीरा (al jazeera on hindu nationalism) के लेख में आगे लिखा गया है कि हिंदू राष्ट्रवाद और कंजर्वेटिव पार्टी की ब्रिटेन में कोलैबोरेशन का इतिहास बहुत पुराना है। साथ ही इस लेख में 2016 के लंदन मेयर चुनावों का भी उल्लेख किया है। इसके अनुसार, तब कंजर्वेटिव कैंडिडेट जैक गोल्डस्मिथ ने अपने मुस्लिम विपक्षी लेबर पार्टी के प्रत्याशी सादिक खान को हराने के लिए एंटी-मुस्लिम अभियान चलाया था। यही नहीं, लेख में आगे कहा गया है कि ऐसी खबरें सामने आई थीं कि 2019 में ब्रिटेन के आम चुनावों के दौरान हिंदू राष्ट्रवादी गुटों ने लेबर पार्टी के प्रत्याशी के खिलाफ अभियान चलाया था। इसके पीछे कारण बताया गया है कि लेबर पार्टी के प्रत्याशी जेरेमी कॉर्बिन ने तब कश्मीर में कार्रवाई के मोदी सरकार की आलोचना की थी। 

सोमदीप ने अपने आर्टिकल में आगे (al jazeera on hindu nationalism) लिखा है कि यह सिर्फ ब्रिटेन की समस्या नहीं रह गई है। हिंदू राष्ट्रवाद की समस्या अब वैश्विक हो चुकी है। उन्होंने लिखा है कि ब्रिटेन की तरह से हिंदू राष्ट्रवादी अमेरिका में भी राइट विंग प्रत्याशियों के लिए अभियान चलाते रहे हैं। उन्होंने 2016 का उदाहरण दिया है। उनके अनुसार, उस समय अमेरिका के राष्ट्रपति चुनाव में रिपब्लिकन उम्मीदवार के लिए हिंदू गुटों ने हिंदू अमेरिकियों को एकत्रित किया था। 

बता दें कि, अलजजीरा हमेशा अपने भारत और हिन्दू विरोधी रुख के लिए कुख्यात रहा है। इस मीडिया हाउस को उन मुस्लिम देशों से फंडिंग मिलती है, जो आतंकवाद को बढ़ावा देते हैं। जिसके कारण इस्लामी आतंकवाद के वैश्विक समस्या होने के बावजूद कभी उसके बारे में नहीं लिखता है, उलटा उन आतंकियों को हीरो की तरह पेश करता है।  

पाकिस्तानी सेना के काफिले पर आत्मघाती हमला, 21 सैनिक घायल

मोहम्मद बिन सलमान बने सऊदी अरब के नए पीएम, क्या अब इस्लामिक देश में आएगा बदलाव ?

Ind Vs Sa: भारत-अफ्रीका के बीच पहला T20 मैच आज, जानिए कहां-कैसे देख पाएंगे मैच

 

न्यूज ट्रैक वीडियो

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -