खेत में प्रैक्टिस और टूटे रैकेट से खेलकर टेनिस चैंपियन बना ये गरीब बेटा

नई दिल्ली : अगर मन में सच्ची लगन और हौंसले बुलंद हो तो फिर इंसान सुविधा और असुविधा को दरकिनार करते हुए सफलता का इतिहास लिख देता है. ऐसा ही कुछ कर दिखाया हरियाणा के एक लाल ने. मिड्डी के घरोंदे और एक गरीब व्यक्ति के घर जन्मे 13 वर्षीय अजय मालिक ने महज खेत में प्रैक्टिस करते हुए अंडर-14 नैशनल टेनिस चैंपियन में हिस्सा लेकर सबको हैरान कर दिया. हरियाणा के इस बेटे ने न सिर्फ अपने प्रदर्शन में इस टूर्नामेंट में हिस्सा लिया बल्कि DLTA कॉम्प्लेक्स में हुई चैंपियनशिप का ख़िताब भी अपने नाम किया.

इस प्रतिस्पर्धा के दौरान जहां विपक्षी खिलाडी ब्रेक के दौरान अपनी थकान को दूर करने के लिए एनर्जी ड्रिंक का सहारा ले रहे थे वही अजय सिर्फ सादा पानी पीकर अपनी जीत का इरादा मजबूत कर रहे थे. अजय की देसी ट्रेनिग का यह अंदाज रंग लाया और उन्होंने चैंपियन बनकर दिखाया. बचपन से ही अजय सुविधा के आभाव में गांव के खेतो में अभ्यास करते थे लेकिन उन्होंने कभी असुविधाओ को अपने प्रदर्शन और प्रतिभा पर हावी नही होने दिया.

यह प्रतिभाशाली खिलाडी स्विस स्टार रोजर फेडरर को अपना आदर्श मानता है. अजय के पास महज दो रैकेट हैं. इस टूर्नामेंट के फाइनल से पहले अजय के एक रैकेट की तार टूट गई जिसे ठीक करवाने का खर्चा 800 रुपए था जो की अजय के पास नही था. अजय के पास सिर्फ किराए के 300 रुपए थे. ऐसे में अगर वह रैकेट ठीक करवाते तो वह अपने घर नही पहुच पाते. लिहाजा उन्हें टूटे रैकेट से खेलना पड़ा इसके बावजूद भी उन्होंने चैंपियन बनकर दिखाया.

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -