कृषि विविधीकरण और प्राकृतिक खेती को प्रोत्साहन

भोपाल/ब्यूरो। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के फसल विविधीकरण दृष्टिकोण से प्रेरणा लेते हुए प्रदेश में सरसों और ग्रीष्मकालीन मूंग के रकबे में बढ़ोत्तरी दर्ज की गई है। उन्होंने बताया कि मध्यप्रदेश में गेहूँ और धान के स्थान पर कृषि विविधीकरण प्रोत्साहन योजना के माध्यम से दाल, रागी, जौ, मोटे अनाज, कोदो-कुटकी, रामतिल, तिल, मसाले, औषधीय फसलें, फलों और सब्जियों के उत्पादन को बढ़ावा दिया जा रहा है।

इस योजना में आईटीसी, पतंजलि, देहात जैसी प्राइवेट कम्पनियों से एक लाख 86 हजार हेक्टेयर क्षेत्र में कृषि विविधीकरण में 13 प्रस्ताव प्राप्त हुए हैं, जिनमें से दो प्रस्तावों को स्वीकृति दे दी गई है। मुख्यमंत्री  चौहान ने बताया कि राज्य सरकार द्वारा देवारण्य योजना प्रारंभ की गई है।

जिसमें तीन वर्षों में 10 हजार हेक्टेयर भूमि में औषधीय पौधों का उत्पादन किया जायेगा। उन्होंने बताया कि पिछले 5 सालों में प्रदेश में 11 हजार हेक्टेयर क्षेत्रफल में मिशन मोड में बाँस उत्पादन किया गया है। प्राकृतिक खेती को बढ़ावा देने के लिए मध्यप्रदेश में राज्य प्राकृतिक कृषि बोर्ड का गठन किया गया है।

मल्लिकार्जुन खड़गे को ईडी का समन, कांग्रेस ने बताया 'घोर अपमान'

जितनी कम है अनुष्का की उम्र...उतनी अधिक है एक्ट्रेस की फैन फॉलोइंग

हर घर तिरंगा: उत्‍तराखंड में 13 हजार फीट की ऊंचाई पर ITBP के जवानों ने फहराया तिरंगा

उत्तर प्रदेश में मुख्यतः कितने प्रकार के वन पाए जाते हैं?

इन प्रश्नों के उत्तर के बिना अधूरी है आपकी पढ़ाई

न्यूज ट्रैक वीडियो

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -