बीजेपी विधायक की इंसानियत, घायल को कंधे पर उठाकर अस्पताल पहुंचाया

फर्रुखाबाद: बहुत से लोगों को यह शिकायत रहती है कि अब इस दुनिया में इंसानियत नाम की कोई चीज ही नहीं बची है. आज के ज़माने में कोई किसी की भी सहायता नहीं करता है. लेकिन अगर हम अपने आसपास नज़र डाले तो आसानी से हमें ऐसे लोग मिल जायेंगे. जो निस्वार्थ काम करते है और हर किसी की सहायता के लिए हमेशा तैयार रहते है. ऐसे वक़्त में भी जब लोग सरेआम देखकर मुँह फेरकर निकल जाते है. 

अक्सर आपने देखा होगा कि जब भी कोई दुर्घटना होती है, तो बहुत से लोग डर के मारे घायल व्यक्ति की सहायता नहीं करते है. घायल व्यक्ति को ऐसे लोग देख लेंगे फोटो खींच लेंगे और वीडियो भी बना लेंगे लेकिन सहायता नहीं करते है. वो मन में यही सोचते है कि कौन इस लफड़े में फंसे. लेकिन उत्तर प्रदेश के फर्रुखाबाद से बीजेपी विधायक सुनील दत्त द्विवेदी ने सरेआम इन सब बातों को सोचे बिना एक ऐसा कारनामा कर दिया है कि हर कोई उनकी तारीफ कर रहा है. 

जी हाँ सुनील दत्त द्विवेदी ने इंसानियत की मिसाल पेश करते हुए सड़क दुर्घटना में घायल तीन लोगों को न सिर्फ अपनी गाड़ी से अस्पताल पहुंचाया, बल्कि अस्पताल में स्ट्रेचर की कमी होने के कारण अपनी पीठ पर एक घायल आदमी को लादकर अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड तक ले गए. घटना फर्रुखाबाद के नेकपुर की है जहां दो मोटरसाइकिलें एक दूसरे से टकरा गई थी. उसी वक़्त बीजेपी विधायक सुनील दत्त द्विवेदी रास्ते से गुजर रहे थे. 

जब विधायक सुनील दत्त द्विवेदी ने यह दुर्घटना देखी तो उन्होंने सड़क पर घायलों को देखकर अपनी गाडी रुकवाई. साथ ही उसी वक़्त सभी घायलों को अस्पताल पहुंचाने में भी सहायता की. जब अस्पताल पहुंचे तो स्ट्रेचर की कमी थी. एक मरीज गंभीर हालत में था तो उसे विधायक जी ने अपनी पीठ पर उठाकर अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड तक पहुंचाया. अस्पताल में मौजूद सभी लोग उन्हें देखकर हैरान हो गए. साथ ही अस्पताल के कर्मचारी भी तुरंत हरकत में आ गए थे. और फिर घायलों का तुरंत ही उपचार शुरू किया गया.

आपको बता दे कि देश में हर रोज ही कई लोग किसी ना किसी दुर्घटना का शिकार हो जाते है. और सही वक़्त पर सहायता नहीं मिलने से बहुत से लोगों की मृत्यु भी हो जाती है. अकेले उत्तर प्रदेश में पिछले साल 19 हजार से ज्यादा लोग सड़क हादसों में मारे गए है. हमारी तरफ से तो लोगों से यही अपील है कि वे सड़क हादसे में घायल हुए लोगों की फोटो खींचने और वीडियो बनाने के बजाय उनकी जान बचाएं और तुरंत अस्पताल पहुंचाएं. क्योंकि सही वक़्त पर आपकी थोड़ी सी सहायता किसी की जिंदगी बचा सकती है. 

गंगा नदी है भारत की पहचान : राष्ट्रपति

असम की महिला को विदेशी समझकर, आगरा के राष्ट्रीय स्मारक में जाने पर लगाई रोक

मदरसों में रोज़ फहराएं तिरंगा - विजय शाह

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -