सावधानी पूर्वक करे महामृत्युंजय मंत्र का जाप

सावधानी पूर्वक करे महामृत्युंजय मंत्र का जाप
Share:

महामृत्युंजय मंत्र का जप करना परम फलदायी है, लेकिन इस मंत्र के जप में कुछ सावधानियां बरतना चाहिए जिससे कि इसका संपूर्ण लाभ आपको मिले और आपको कोई हानि न हो.

1-महाम़त्युंजय का जो भी मंत्र का जाप करें उसके उच्चारण ठीक ढंग से यानि की शुद्धता के साथ करें. एक शब्द की गलती आपको भारी पड़ सकती है.

2-इस मंत्र का जाप एक निश्चित संख्या निर्धारण कर करे. अगले दिन इनकी संख्या बढा अगर चाहे तो लेकिन कम न करें.

3-मंत्र का जाप करते समट उच्चारण होंठो से बाहर नहीं आना चाहिए. यदि इसका अभ्यास न हो तो धीमे स्वर में जप करें.

4-इस मंत्र को करते समय धूप-दीप जलते रहना चाहिए. इस बात का विशेष ध्यान रखें.

5-इस मंत्र का जाप केवल रुद्राक्ष माला से ही करे

7-इस मंत्र का जाप एक निश्चित संख्या निर्धारण कर करे. अगले दिन इनकी संख्या बढा अगर चाहे तो लेकिन कम न करें.

8-मंत्र का जाप करते समट उच्चारण होंठो से बाहर नहीं आना चाहिए. यदि इसका अभ्यास न हो तो धीमे स्वर में जप करें.

9-इस मंत्र को करते समय धूप-दीप जलते रहना चाहिए. इस बात का विशेष ध्यान रखें.

10-इस मंत्र का जाप केवल रुद्राक्ष माला से ही करे.

विष्णु पूजा के साथ बोले ये मंत्र

जानिए क्यों करते है मरने के बाद गंगाजल और तुलसी का प्रयोग

भगवान विष्णु की पूजा से दूर होगी गरीबी

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -