आजमगढ़ सांप्रदायिक हिंसा में अभी तक 7 अरेस्ट

उत्तरप्रदेश / आजमगढ़ : सपा प्रमुख मुलायम सिंह यादव के संसदीय निर्वाचन क्षेत्र आजमगढ़ के सरायमीर इलाके में हुई सांप्रदायिक हिंसा के मामले में 200 से ज्यादा लोगों के खिलाफ केस दर्ज़ कर 7 लोगों को अगस्त किया गया है. इस बीच हिंसा प्रभावित क्षेत्रों का जायज़ा लेने जा रहे भाजपा के एक प्रतिनिधिमंडल को रोक लिया गया. वही फ़िलहाल हालात काबू में है लेकिन तनाव फैला हुआ है.

अपर पुलिस महानिदेशक (कानून-व्यवस्था) दलजीत चौधरी के मुताबिक गांव में शनिवार की रात दो समुदायों के व्यक्तियों के बीच एक मुकदमे को लेकर जदप हो गई थी. देखते ही देखते झड़प ने सांप्रदायिक का रूप ले लिया. इस दौरान बड़ी संख्या में गांव पहुंचे एक समुदाय विशेष के हथियारबंद लोगों ने दूसरे वर्ग के घरों पर हमला बोल दिया और कई मकान फूंक डाले. उन्होंने बताया कि घटना की जानकारी मिलने के बाद मौके पर पहुंचे उपजिलाधिकारी अनिल कुमार सिंह, पुलिस क्षेत्राधिकारी के. के. सरोज, तहसीलदार और कुछ पुलिसकर्मी पथराव में घायल हो गए.

पुलिस ने हुड़दंगियों को तितर-बितर करने के लिये आंसू गैस के गोले दाग. रविवार को भी जगह-जगह हिंसा और आगजनी की वारदात जारी रहीं. इस पूरे मामले में 21 नामजद और करीब 200 अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज करके 7 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. हिंसा प्रभावित इलाकों में पुलिस की कड़ी तैनाती की गई है हिंसा प्रभावित क्षेत्रों में स्थिति अब सामान्य है.

वही हिंसा प्रभावित क्षेत्रों के दौरे पर जा रहे बीजेपी के एक प्रतिनिधिमंडल को रास्ते में बाराबंकी जिले में रोक लिया गया. सभी को हिरासत में ले लिया गया है. प्रतिनिधिमंडल में पार्टी के प्रान्तीय उपाध्यक्ष शिव प्रताप शुक्ला, पूर्व पुलिस महानिदेशक बृजलाल, प्रदेश मंत्री जयप्रकाश निषाद और सेवानिवृत्त पुलिस महानिरीक्षक राजेश राय शामिल हैं.

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -