24 घंटे में 10 नए मामले सामने आने से हिला इंदौर, तेजी से फैल कोरोना संक्रमण

Mar 26 2020 10:16 AM
24 घंटे में 10 नए मामले सामने आने से हिला इंदौर, तेजी से फैल कोरोना संक्रमण

इंदौर में मंगलवार रात को कोरोनावायरस का एक भी पॉजिटिव मरीज नहीं था लेकिन सिर्फ 24 घंटे के भीतर बुधवार को 10 मरीज का मामला सामने आने से हड़कंप मच गया है. इनमें से उज्जैन निवासी एक महिला की उपचार के दौरान एमवाय अस्पताल में मौत हो गई. ये न सिर्फ इंदौर, बल्कि मप्र में भी कोरोना से पहली मौत है. दिन में महिला समेत 5 मरीज उपचार के लिए अस्पताल में भर्ती हुए थे, जो देर रात बढ़कर 10 हो गए है. चौंकाने वाली बात तो ये है कि नए 5  मरीज उसी महिला के परिवार के हैं और रिश्तेदार हैं, जिनकी मौत हो गई है. बुधवार शाम को ही कोरोना संदिग्ध 47 वर्षीय एक शख्स ने भी दम तोड़ दिया. उन्हें शाम को ही इलाज के लिए उज्जैन से इंदौर लाया गया था. हालांकि अब तक उनका सैंपल जांच के लिए नहीं भेजा गया था.

इसके बारे में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. प्रवीण जड़िया ने बताया है कि कोरोनावायरस संक्रमण की चपेट में आए मरीजों में शामिल 65 वर्षीय महिला उज्जैन की निवासी थी. दोपहर करीब 3 बजे उन्हाेंने दम तोड़ा. कोरोनावायरस पॉजिटिव पाए गए 4 अन्य मरीज इंदौर के ही अलग-अलग इलाकों में रहते हैं. इनमें 50 वर्षीय महिला, 48 वर्षीय पुरुष, 68 वर्षीय पुरुष और 65 वर्षीय पुरुष शामिल हैं. ये मरीज शहर के 2 निजी अस्पतालों में भर्ती हैं. खास बात तो यह है कि इन पांचों मरीजों में से किसी की भी विदेश यात्रा की हिस्ट्री नहीं है. यहां तक कि 2 मरीज ऐसे थे ज्यादा बाहर निकलते भी नहीं थे और ना ही बीते 14 दिनों में किसी आयोजन में शामिल हुए. मरीजों में 2 पुरुष मित्र हैं. वे वैष्णोदेवी की तीर्थ यात्रा पर गए थे. हाल ही में वापस लौटे हैं. उधर, उज्जैन की मृत महिला के बारे में पता चला है कि वे कुछ दिनों पहले बेगमबाग में सीएए के विरोध में चल रहे धरने में शामिल हुईं थीं. उनके बेटे ने इस बात की पुष्टि की है.

जानकारी के लिए बता दें की उज्जैन की जिस महिला की मौत इस बीमारी से हुई थी, उसके जनाजे में दो सगे भाई भी शरीक हुए थे. बुधवार सुबह इन दोनों की हालत खराब हुई तो कोई इन्हें मल्हारगंज स्थित लाल अस्पताल छोड़ा गया. यहां से इन्हें गोकुलदास अस्पताल के सामने बने आईसोलेशन सेंटर एमआरटीबी भेजा तो दोनों वहां से भाग निकले और फिर लाल अस्पताल पहुंच गए. यहां बहुत देर तक एक कोने में बैठे रहे.

कोरोना वायरस की दहशत में इस दिग्गज बांग्‍लादेशी नेता को मिली जेल से रिहाई

मप्र: राज्य में कोरोना से हुई पहेली मौत, टेस्ट से पहले भागा परिवार का संदिग्ध शख्स

Naagin 4 : देव यानी विजयेंद्र कुमेरिया ने खोले अपने जीवन के कई राज़