Share:
Wrestlers Protest: साक्षी मलिक को छोड़कर तमाम पहलवान लौटे घर, बृजभूषण बोले- सबूत हो तो अदालत को दो, मैं फांसी के लिए तैयार
Wrestlers Protest: साक्षी मलिक को छोड़कर तमाम पहलवान लौटे घर, बृजभूषण बोले- सबूत हो तो अदालत को दो, मैं फांसी के लिए तैयार

नई दिल्ली: 23 अप्रैल से जंतर-मंतर पर धरना दे रहे पहलवानों (Wrestlers Protest) ने आखिरकार वापस अपने घर का रास्ता पकड़ लिया है। विगत एक महीने से भारतीय कुश्ती संघ (WFI) के पूर्व अध्यक्ष और भाजपा सांसद बृजभूषण शरण सिंह को गिरफ्तार करने की मांग कर रहे पहलवान मंगलवार को अपने मेडल बहाने उत्तराखंड के हरिद्वार पहुँच गए थे। लेकिन, किसान नेता राकेश टिकैत के भाई नरेश टिकैत के कहने पर खिलाड़ियों ने मेडल तो नहीं बहाए, किन्तु वे हरिद्वार से लौटकर दिल्ली भी नहीं आए। 

रिपोर्ट के अनुसार, हरिद्वार से रेसलर साक्षी मलिक को छोड़कर शेष सभी पहलवान अपने-अपने घर लौट गए हैं। बता दें कि, जहाँ एक तरफ खिलाड़ी धरना स्थल छोड़ घर लौट गए हैं, वहीं पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने आंदोलन की इस चिंगारी को जिन्दा रखने के लिए इन्हीं पहलवानों के समर्थन में कोलकाता में रैली निकाली हैं। गौरतलब है कि, 28 मई को पहलवान नए संसद भवन पर महापंचायत करना चाहते थे, वो भी उसी दिन जब भवन का उद्घाटन होना था। उद्घाटन समारोह के चलते वहां सुरक्षा बेहद कड़ी थी और किसी को भी संसद की तरफ जाने की इजाजत नहीं थी। फिर भी दिल्ली पुलिस के तमाम आग्रह के बावजूद पहलवानों ने संसद की तरफ कूच किया तो दिल्ली पुलिस ने उन्हें हिरासत में लिया गया और उनके खिलाफ FIR दर्ज की गई, हालाँकि खिलाड़ियों को उसी दिन रिहा कर दिया गया था। 

इसके अगले दिन ही पहलवानों ने घोषणा की थी कि हरिद्वार जाकर अपने पदक बहा देंगे। हालांकि नरेश टिकैत ने उन्हें ऐसा करने से रोक दिया। पहलवानों ने हरिद्वार में मीडिया से बात नहीं की। वह पूरे वक़्त शांत ही रहे, क्योंकि उन्होंने मौन व्रत लिया हुआ था। साक्षी मलिक फिलहाल दिल्ली में है, किन्तु शेष सभी पहलवान घर लौट चुके हैं। वह कब लौटेंगे और उनका आगे की क्या योजना है, इसे लेकर फिलहाल स्थिति स्पष्ट नहीं है। उधर सीएम ममता के नेतृत्व में कोलकाता में TMC द्वारा पहलवानों के समर्थन में रैली निकाली गई. इस दौरान TMC वर्कर्स हाथों में ‘वी वांट जस्टिस’ का पोस्टर लिए भारत के पहलवानों को न्याय देने की मांग कर रहे थीं. 

बृजभूषण सिंह ने कहा- सबूत दो

वहीं, इस धरने को लेकर WFI के पूर्व अध्यक्ष बृजभूषण सिंह ने दावा करते हुए कहा है कि, ‘यदि तुम्हारे पास सबूत है तो अदालत को दो और अदालत मुझे फांसी देगा, तो मुझे वो मंजूर है। मामले की जांच दिल्ली पुलिस कर रही है। यदि आरोपों में कोई भी सच्चाई है, तो गिरफ्तारी की जाएगी। वे अपने मेडल गंगा में बहाने के लिए हरिद्वार गए थे, मगर बाद में उन्होंने इसे टिकैत को सौंप दिया। यह उनका स्टैंड है, हम क्या कर सकते हैं?' बता दें कि, बृजभूषण पर पहलवानों ने यौन शोषण के आरोप लगाए हैं, जिसमे गलत तरीके से छूने के इल्जाम शामिल हैं, दिल्ली पुलिस उनके खिलाफ 2 FIR (जिसमे पॉस्को एक्ट भी शामिल है) दर्ज करके देशभर के विभिन्न हिस्सों में जांच कर रही है। 

'मेडल गंगा में बहाने से फांसी नहीं मिलेगी', बृजभूषण सिंह का बड़ा बयान

'हम न्याय दिलाने के लिए अपने सिर कटवाने के लिए तैयार हैं', पहलवानों के समर्थन में आया किसान संगठन

38 दिन तक तमाम सुविधाएं दी, फिर भी कानून तोड़ते रहे पहलवान, अब जंतर-मंतर पर नहीं बैठने देंगे - दिल्ली पुलिस कमिश्नर

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -