9 महीने के उच्च खाद्य कीमतों में WPI मुद्रास्फीति हुई शामिल

थोक मूल्य-आधारित मुद्रास्फीति (डब्ल्यूपीआई) नवंबर में नौ महीने के उच्चतम स्तर पर 1.55 प्रतिशत पर पहुंच गई, क्योंकि विनिर्मित उत्पाद महंगा हो गए, जबकि खाद्य कीमतों में कमी आई। अक्टूबर 2020 में WPI मुद्रास्फीति 1.48 प्रतिशत और पिछले साल नवंबर में 0.58 प्रतिशत थी, जो फरवरी के बाद से थोक मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति का उच्चतम स्तर 2.26 प्रतिशत है।

नवंबर में खाद्य पदार्थों की महंगाई में नरमी देखी गई, लेकिन विनिर्मित वस्तुओं में कीमतों में गिरावट देखी गई। नवंबर में खाद्य मुद्रास्फीति 3.94 प्रतिशत, पिछले महीने में 6.37 प्रतिशत थी। सब्जियों और आलू की कीमतों में वृद्धि दर 12.24 प्रतिशत और महीने के दौरान 115.12 प्रतिशत अधिक रही। गैर-खाद्य लेखों में मुद्रास्फीति नवंबर में 8.43 प्रतिशत थी। ईंधन और बिजली की टोकरी नवंबर में नरम (-) 9.87 प्रतिशत हो गई।

भारतीय रिजर्व बैंक ने इस महीने की शुरुआत में अपनी मौद्रिक नीति बैठक में कहा था कि सर्दियों के महीनों में क्षणिक राहत को छोड़कर मुद्रास्फीति अधिक रहेगी। अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में उपभोक्ता मूल्य सूचकांक के आधार पर खुदरा मुद्रास्फीति की दर 6.8 प्रतिशत थी।

कच्चे तेल की कीमतों में फिर हुई वृद्धि

एयर इंडिया के लिए बोली लगाएगा टाटा ग्रुप ! आज दाखिल कर सकता है 'एक्सप्रेशन ऑफ इंटरेस्ट'

सेंसेक्स और निफ्टी में आया बड़ा उछाल

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -