टर्म इंश्योरेंस लेते समय मेडिकल टेस्ट अनिवार्य क्यूँ होते हैं?
टर्म इंश्योरेंस लेते समय मेडिकल टेस्ट अनिवार्य क्यूँ होते हैं?
Share:

टर्म इंश्योरेंस एक वित्तीय सुरक्षा योजना है जो जीवन की अनिश्चित घटनाओं जैसे कि गंभीर बीमारियाँ, प्रियजनों की मृत्यु, या आय की हानि से सुरक्षा प्रदान करती है। इस योजना में निर्धारित वर्षों के लिए कवरेज प्रदान की जाती है। मान लीजिए कोई 50 लाख रुपये का कवर 20 वर्षों के लिए लेता है। उन्हें हर महीने एक निश्चित प्रीमियम देना होगा। अगर उन 20 वर्षों के भीतर उनकी असमय मृत्यु हो जाती है, तो उनके परिवार को 50 लाख रुपये की राशि मिल जाएगी।

मेडिकल टेस्ट की आवश्यकता
टर्म इंश्योरेंस लेने से पहले कई आवश्यकताएं पूरी करनी होती हैं। इनमें आवेदन पत्र भरना और आय, निवास और पहचान के प्रमाण के लिए दस्तावेज प्रदान करना शामिल हैं। इसके अतिरिक्त, आवेदकों को मेडिकल टेस्ट करवाना होता है। यहां कुछ कारण दिए गए हैं जो मेडिकल टेस्ट को टर्म प्लान खरीदते समय अनिवार्य बनाते हैं:
1. प्रीमियम निर्धारण में सहायता: टर्म इंश्योरेंस पर देय प्रीमियम बीमा कंपनी की जोखिम धारणा पर निर्भर करते हैं। अगर बीमा कंपनी को लगता है कि किसी आवेदक को असमय मृत्यु या गंभीर बीमारी का जोखिम अधिक है, तो वे उस ग्राहक से उच्च प्रीमियम लेंगे।


2. दावा अस्वीकरण की संभावना कम करने के लिए: अपने मेडिकल इतिहास को खुलके न बताना दावा अस्वीकरण के प्रमुख कारणों में से एक है। लाइफ इंश्योरेंस खरीदते समय, बीमा कंपनियां आवेदक के मेडिकल इतिहास का आकलन करके जीवन कवर प्रदान करती हैं। मेडिकल टेस्ट करवाने से आवेदक के स्वास्थ्य की सटीक तस्वीर मिलती है, जिससे दावा अस्वीकरण की संभावना कम होती है।


3. उच्च बीमा राशि के लिए अनिवार्य: कुछ बीमाकर्ता मेडिकल परीक्षण के बिना टर्म लाइफ इंश्योरेंस प्रदान करते हैं। हालांकि, ये कम मूल्य की योजनाएं होती हैं क्योंकि बीमाकर्ता अज्ञात जोखिमों के लिए कवर प्रदान करते हैं। उच्च राशि की बीमा के लिए मेडिकल टेस्ट अनिवार्य हैं।

मेडिकल टेस्ट का महत्व:-
मेडिकल टेस्ट से बीमाकर्ता को आवेदक के स्वास्थ्य के बारे में सब कुछ पता चलता है। इसके बाद, बीमाकर्ता आवेदक के लिए व्यक्तिगत टर्म इंश्योरेंस कवरेज बना सकते हैं, जिसमें अधिकतम कवरेज अवधि, इष्टतम (कंपाउंड) प्रीमियम दरें और अन्य नीति लाभ शामिल हो सकते हैं। यह प्रक्रिया बीमाकर्ता को सही प्रीमियम दर तय करने में सहायता करती है। यदि आवेदक स्वस्थ हैं, तो कंपनी निम्न प्रीमियम की पेशकश करेगी। इसके विपरीत, यदि आवेदक में कोई अंतर्निहित स्वास्थ्य समस्याएं या बीमारी का इतिहास है, तो कंपनी उच्च प्रीमियम ले सकती है।

मेडिकल टेस्ट की प्रक्रिया
एक बार आवेदन जमा करने के बाद, आपका बीमाकर्ता एक मेडिकल विशेषज्ञ को नियुक्त करेगा जो आपको सही तरीके से प्रक्रिया पूरी करने में मदद करेगा। बीमाकर्ताओं के विभिन्न क्लीनिकों के साथ संबंध होते हैं और आप अपनी सुविधानुसार निकटतम स्थान और समय चुन सकते हैं। आपके पास घर या कार्यालय में टेस्ट शेड्यूल करने का विकल्प भी होगा। यहां मेडिकल टेस्ट की प्रक्रिया में शामिल कदम दिए गए हैं:
1. साक्षात्कार: आपसे पिछले मेडिकल इतिहास या वर्तमान दवाइयों से संबंधित विभिन्न प्रश्न पूछे जाएंगे। वर्तमान चिकित्सकों के संपर्क के बारे में भी पूछा जा सकता है। यह जानकारी सावधानी से प्रदान की जानी चाहिए क्योंकि इसे बाद में सत्यापित किया जा सकता है।
2. मानक नमूना संग्रहण: आगे की चिकित्सा जांच के लिए विभिन्न नमूने एकत्र किए जाते हैं। कुछ मूलभूत मापदंड जैसे शरीर का वजन और ऊंचाई भी नोट की जाती हैं। इसके आधार पर, एक इलेक्ट्रोकार्डियोग्राम किया जा सकता है। इन परीक्षणों के परिणामों का उपयोग साक्षात्कार में दी गई जानकारी की पुष्टि के लिए किया जा सकता है। इन परीक्षणों का मुख्य उद्देश्य ग्राहक के स्वास्थ्य कोटा की पहचान करना है। इस चरण में गुमराह करने वाली जानकारी देने से पॉलिसी की अस्वीकृति हो सकती है। इसलिए, सत्य बताना अत्यंत महत्वपूर्ण है।

मेडिकल टेस्ट की तैयारी के लिए सुझाव:-
यहां कुछ सुझाव दिए गए हैं जो आपको टर्म प्लान खरीदने के लिए मेडिकल टेस्ट की तैयारी करने में
मदद कर सकते हैं:
1. हाइड्रेटेड रहें: यह मूत्र और रक्त नमूने आसानी से लेने में मदद करता है। पानी शरीर से विषाक्त पदार्थों को भी बाहर निकालने में सहायक होता है।
2. दवाओं से बचें: जो रक्तचाप को प्रभावित कर सकती हैं।
3. अल्कोहल और निकोटीन से बचें: ये आपके परीक्षण परिणामों को प्रभावित कर सकते हैं।
4. अच्छी नींद लें: पर्याप्त नींद न लेने से रक्तचाप प्रभावित हो सकता है।
5. नमकीन खाने से बचें: ये निर्जलीकरण और मूत्र की उच्च सांद्रता का कारण बन सकते हैं।
6. जोरदार गतिविधियों से बचें: ये हृदय दर को प्रभावित कर सकती हैं।
7. कैफीनयुक्त पेय से बचें।
8. आसानी से रोल अप होने वाली आस्तीन वाले कपड़े पहनें: ताकि रक्त नमूने आसानी से लिए जा सकें।
9. अपने सभी मेडिकल रिकॉर्ड्स तैयार रखें।

सामान्य प्रश्न
क्या मुझे मेडिकल परीक्षण के लिए भुगतान करना होगा?
आमतौर पर, जब आप टर्म प्लान के लिए आवेदन करते हैं, तो बीमा कंपनी मेडिकल परीक्षणों की लागत उठाती है।

क्या मैं अपने मेडिकल परीक्षण के परिणाम प्राप्त कर सकता हूं?
हां, आप बीमा कंपनी से संपर्क करके अपने मेडिकल परीक्षण के परिणाम प्राप्त कर सकते हैं। 

क्या बिना मेडिकल परीक्षण के टर्म प्लान खरीदा जा सकता है?
यह बीमाकर्ता की नीतियों और आपके द्वारा चुनी गई योजना के प्रकार पर निर्भर करता है। कुछ बीमा कंपनियां मेडिकल परीक्षण के बिना टर्म प्लान प्रदान कर सकती हैं। 

मेडिकल टेस्ट न केवल बीमा कंपनी के लिए जोखिम का आकलन करने में महत्वपूर्ण होते हैं, बल्कि वे आपके लिए भी महत्वपूर्ण होते हैं क्योंकि वे आपके स्वास्थ्य की सही तस्वीर प्रदान करते हैं और आपको सही कवरेज और प्रीमियम दरें प्राप्त करने में मदद करते हैं। इस प्रकार, मेडिकल टेस्ट न केवल एक औपचारिकता हैं, बल्कि एक जरूरी प्रक्रिया हैं जो आपके वित्तीय सुरक्षा योजना की नींव को मजबूत करती हैं।

नहीं रहे महाराष्ट्र के पूर्व CM मनोहर जोशी, 86 साल की उम्र में ली अंतिम सांस

पुलिस ने भारत में अवैध प्रवेश के आरोप में चार बांग्लादेशी नागरिकों को गिरफ्तार किया

सवारी बनकर रिक्शा में बैठते थे और फिर मचाते थे लूट, यूपी पुलिस ने पकड़ा गिरोह

 

लाइफ इंश्योरेंस

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -