जब लड़की बनी "मर्दानी", खुद पहुंची अपनी बारात लेकर लड़के के घर

बलिया : देश में हर तरफ से प्रेमी युगल से जुडी हुई कई तरह की खबरे सामने आ रही है। अब हाल ही में प्रेमी युगल से जुड़ा एक और मामला सामने आया है। बताया जा रहा है कि प्रेमी-प्रेमिका ने सात जन्मो तक साथ रहने की कस्मे तो खाई लेकिन परिवार और पिता के दबाव के कारण लड़के की शादी अपनी प्रेमिका से ना हो पाई। मामले में नया मोड़ तब आया जब लड़की ने चुप होकर रोने का रास्ता ना चुनते हुए हिम्मत दिखाई और खुद ही बारात लेकर लड़के के घर पहुँच गयी। युवती की हिम्मत देखर ना केवल लड़की के घरवालों ने बल्कि लड़के के गाँव वालों ने भी उसका साथ दिया। आख़िरकार लड़के के पिता को भी युवती की हिम्मत के सामने हर माननी ही पड़ी और दोनों की शादी भी ख़ुशी-ख़ुशी करवाई गई।

गाँव के लोगों का कहना है कि अशोक (प्रेमी) और इसी इलाके में रहने वाली आरती (प्रेमिका) अपने प्यार के चलते एक-दूसरे के काफी करीब आ गए थे, यहाँ तक कि उन दोनों ने विवाह करने का फैसला भी ले लिया था। लेकिन जब इस रिश्ते कि बात अशोक के पिता को मालूम हुई तो वे गुस्से से आग बबूला हो गए और उन्होंने इस रिश्ते को भी नामंजूर कर दिया। अशोक ने भी अपने पिता का फैसला आरती को सुनाया और कहा कि अब उनकी शादी नहीं हो सकती है और अब उन्हें भी अपने रिश्ते में दुरी बना लेनी चाहिए।

मगर आरती ने भी यह ठान लिया था कि यह शादी होकर ही रहेगी। बस इसी जिद के चलते वह मर्दानी का रूप धारण कर अशोक के गांव अपने पिता के साथ बारात लेकर पहुँच गई। इस तरह से बारात आने से पहले तो सब चौंक गए लेकिन बाद में मामले को समझ कर गांव वालों ने भी आरती का साथ देने का मन बना लिया। लड़के के पिता को भी मनाया गया तो वे भी कुछ देर बाद मान गए और अपने बेटे के साथ गांव के मंदिर में पहुँच गए और अपने लड़के की शादी आरती से करवा कर उन्हें आशीर्वाद भी दिया।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -