Share:
भ्रष्टाचार मामले में हुए अरेस्ट, तो 'मंत्री' ने बीमारी के नाम पर मांगी जमानत ! सेंथिल बालाजी की याचिका पर क्या बोली सुप्रीम कोर्ट ?
भ्रष्टाचार मामले में हुए अरेस्ट, तो 'मंत्री' ने बीमारी के नाम पर मांगी जमानत ! सेंथिल बालाजी की याचिका पर क्या बोली सुप्रीम कोर्ट ?

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने आज मंगलवार (28 नवंबर) को कथित मनी लॉन्ड्रिंग मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ED) द्वारा गिरफ्तार किए गए तमिलनाडु के मंत्री वी सेंथिल बालाजी को चिकित्सा आधार पर जमानत देने से इनकार कर दिया।न्यायमूर्ति बेला एम त्रिवेदी और न्यायमूर्ति सतीश चंद्र शर्मा की पीठ ने बालाजी को मेडिकल जमानत देने से इनकार करते हुए कहा कि, ''आपकी बीमारी गंभीर या जीवन के लिए खतरा प्रतीत नहीं होती है।''

सुनवाई की पिछली तारीख पर कोर्ट ने बालाजी की ताजा मेडिकल रिपोर्ट मांगी थी। एक संक्षिप्त सुनवाई के दौरान, वरिष्ठ वकील मुकुल रोहतगी ने पीठ को सभी मेडिकल रिपोर्ट दिखाईं और कहा कि, "यह जमानत का मामला है। इस व्यक्ति की बाईपास (सर्जरी) हुई थी और इससे ब्रेन स्ट्रोक हो सकता है।" जनरल तुषार मेहता ने कहा, ''इस तर्क के हिसाब से देखें तो 70 फीसदी लोग बीमार हैं।'' जस्टिस त्रिवेदी ने कहा, "बहुत गंभीर नहीं लगता। आजकल बायपास अपेंडिसाइटिस जैसा है।"

सुप्रीम कोर्ट ने कोई भी राहत देने से इनकार करते हुए कहा कि, "आप गुण-दोष के आधार पर नियमित जमानत के लिए आवेदन करें। हम मेडिकल जमानत से संतुष्ट नहीं हैं। याचिका वापस ली गई मानकर खारिज कर दी गई।" बता दें कि, पिछले महीने मद्रास हाई कोर्ट ने सेंथिल बालाजी की याचिका खारिज कर दी थी। मद्रास उच्च न्यायालय ने बालाजी की जमानत याचिका खारिज करते हुए कहा था कि, "याचिकाकर्ता (बालाजी) की स्वास्थ्य रिपोर्ट ऐसी चिकित्सीय स्थिति नहीं लगती है, जिसका ध्यान तभी रखा जा सकता है जब उसे जमानत पर रिहा किया जाए। इसके अलावा, उसका पिछला आचरण भी देखा जा सकता है।" 

इसके अलावा हाई कोर्ट ने कहा था कि, बिना पोर्टफ़ोलियो के मंत्री के रूप में सेंथिल की वर्तमान स्थिति और उनके भाई अशोक कुमार आयकर अधिकारियों पर हमला करने के बाद फरार हैं, ये सभी संचयी रूप से एक अपरिवर्तनीय निष्कर्ष की ओर ले जाते हैं कि, निश्चित रूप से, यदि उन्हें (बालाजी को) जमानत दी गई, तो वह प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से गवाहों को प्रभावित करेंगे या जांच में बाधा बनेंगे।"

बालाजी को 2011 से 2016 तक परिवहन मंत्री के रूप में उनके कार्यकाल के दौरान कथित तौर पर नौकरी के बदले नकद घोटाले के सिलसिले में 13 जून को ED ने गिरफ्तार किया था। गिरफ्तारी के बाद, बालाजी ने सीने में दर्द की शिकायत की और उन्हें चेन्नई के ओमांदुरार सरकारी अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उनकी धमनियों में तीन रुकावटों का निदान किया। कुछ दिनों बाद कावेरी अस्पताल में उनकी बायपास सर्जरी हुई।

मणिपुर हिंसा में 'NGO' ही असली खलनायक ! लाशों पर कैसे रोटी सेंक रहे गैर-सरकारी संगठन ? सुप्रीम कोर्ट में पूर्व चीफ जस्टिस की हैरतअंगेज़ रिपोर्ट

'तेलंगाना में हमारी सरकार..', NDTV के नाम से 'कांग्रेस' ने किया दावा, न्यूज़ चैनल बोला- कृपया फर्जी खबरें न फैलाएं

कौन है प्रेमबाई? जिसके घर पत्नी संग पहुंचे CM शिवराज

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -