आईसीएमआर ने बताया कि गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को क्या खाना चाहिए और क्या नहीं खाना चाहिए
आईसीएमआर ने बताया कि गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को क्या खाना चाहिए और क्या नहीं खाना चाहिए
Share:

भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) ने हाल ही में गर्भवती महिलाओं के लिए आहार संबंधी सिफारिशों को रेखांकित करते हुए व्यापक दिशानिर्देश जारी किए। इन दिशानिर्देशों का उद्देश्य गर्भावस्था के दौरान मां और विकासशील भ्रूण दोनों के सर्वोत्तम स्वास्थ्य को सुनिश्चित करना है।

गर्भावस्था के दौरान उचित पोषण का महत्व

गर्भावस्था के दौरान संतुलित आहार बनाए रखना महत्वपूर्ण है क्योंकि इसका सीधा असर शिशु के स्वास्थ्य और विकास पर पड़ता है। पर्याप्त पोषण गर्भावस्था और प्रसव के दौरान जटिलताओं को रोकने में मदद करता है, साथ ही जन्म दोषों के जोखिम को भी कम करता है और माँ और बच्चे दोनों के समग्र कल्याण को सुनिश्चित करता है।

गर्भवती महिलाओं के लिए आवश्यक पोषक तत्व

  1. फोलिक एसिड: फोलिक एसिड बच्चे की न्यूरल ट्यूब के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, जो अंततः मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी का निर्माण करती है। गर्भवती महिलाओं को फोलिक एसिड से भरपूर खाद्य पदार्थ जैसे हरी पत्तेदार सब्जियां, खट्टे फल, बीन्स और फोर्टिफाइड अनाज का सेवन करने की सलाह दी जाती है।

  2. आयरन: गर्भावस्था के दौरान आयरन की कमी से एनीमिया हो सकता है, जिससे मां और बच्चे दोनों को खतरा हो सकता है। आयरन से भरपूर खाद्य पदार्थ जैसे लीन मीट, पोल्ट्री, मछली, बीन्स और फोर्टिफाइड अनाज को आहार में शामिल करना चाहिए।

  3. कैल्शियम: कैल्शियम बच्चे की हड्डियों और दांतों के विकास के लिए आवश्यक है। दूध, पनीर और दही जैसे डेयरी उत्पाद, साथ ही पत्तेदार साग और गरिष्ठ खाद्य पदार्थ, कैल्शियम के उत्कृष्ट स्रोत हैं।

  4. प्रोटीन: बच्चे के ऊतकों की वृद्धि और विकास के लिए पर्याप्त प्रोटीन का सेवन आवश्यक है। गर्भवती महिलाओं को प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थ जैसे लीन मीट, पोल्ट्री, मछली, अंडे, डेयरी उत्पाद, फलियां और नट्स का सेवन करना चाहिए।

  5. ओमेगा-3 फैटी एसिड: ओमेगा-3 फैटी एसिड बच्चे के मस्तिष्क और आंखों के विकास के लिए महत्वपूर्ण है। ओमेगा-3 फैटी एसिड के स्रोतों में सैल्मन, अखरोट, अलसी और चिया बीज जैसी वसायुक्त मछलियाँ शामिल हैं।

गर्भावस्था के दौरान परहेज करने योग्य खाद्य पदार्थ

  1. कच्चा या अधपका मांस: कच्चा या अधपका मांस खाने से साल्मोनेला और लिस्टेरियोसिस जैसी खाद्य जनित बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है, जो मां और बच्चे दोनों के लिए हानिकारक हो सकता है।

  2. अनपाश्चराइज्ड डेयरी उत्पाद: अनपाश्चराइज्ड डेयरी उत्पादों में लिस्टेरिया जैसे हानिकारक बैक्टीरिया हो सकते हैं, जो गर्भावस्था के दौरान संक्रमण का कारण बन सकते हैं। खाद्य जनित बीमारियों के जोखिम को कम करने के लिए पाश्चुरीकृत डेयरी उत्पादों का चयन करने की सिफारिश की जाती है।

  3. कच्चा समुद्री भोजन: गर्भावस्था के दौरान सुशी सहित कच्चे समुद्री भोजन से बचना चाहिए क्योंकि परजीवियों और बैक्टीरिया से संदूषण का खतरा होता है जो खाद्य जनित बीमारियों का कारण बन सकते हैं।

  4. उच्च-पारा मछली: कुछ मछली प्रजातियों जैसे शार्क, स्वोर्डफ़िश, किंग मैकेरल और टाइलफ़िश में पारा का उच्च स्तर होता है, जो बच्चे के विकासशील तंत्रिका तंत्र के लिए हानिकारक हो सकता है। गर्भवती महिलाओं को इन मछलियों का सेवन सीमित करना चाहिए और सैल्मन, ट्राउट और सार्डिन जैसे कम पारा वाले विकल्पों का चयन करना चाहिए।

  5. शराब और कैफीन: गर्भावस्था के दौरान शराब के सेवन से भ्रूण में अल्कोहल सिंड्रोम हो सकता है, जिससे विकास में देरी और जन्म दोष हो सकते हैं। इसी तरह, अत्यधिक कैफीन के सेवन से भी बचना चाहिए क्योंकि इससे गर्भपात और जन्म के समय कम वजन का खतरा बढ़ सकता है।

गर्भावस्था के दौरान आवश्यक पोषक तत्वों से भरपूर संतुलित आहार का पालन करना माँ और बच्चे दोनों के स्वास्थ्य और विकास के लिए महत्वपूर्ण है। आईसीएमआर द्वारा प्रदान की गई आहार संबंधी सिफारिशों का पालन करके, गर्भवती महिलाएं एक स्वस्थ गर्भावस्था सुनिश्चित कर सकती हैं और अपने बच्चे को जीवन में सर्वोत्तम संभव शुरुआत दे सकती हैं।

कम कीमत और अधिक सुविधाएँ... ₹10 हजार से कम में मिल रहे हैं ये 5जी स्मार्टफोन

नए अवतार में भारतीय सड़कों पर आ रही है हुंडई की यह कार, कंपनी दे रही है कूल अपडेट्स

न देख सकती, न सुन सकती ! फिर भी सारा मोईन ने ICSE 10वीं परीक्षा में 95% अंक लाकर रचा इतिहास

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -