Share:
क्या होता है भकूट दोष, विवाह से पूर्व क्यों मिलाई जाती है कुंडलियां
क्या होता है भकूट दोष, विवाह से पूर्व क्यों मिलाई जाती है कुंडलियां

सनातन धर्म में विवाह से पहले कुंडली मिलान की परंपरा है। यह प्रथा वर-वधू के भावी वैवाहिक जीवन के बारे में व्यापक जानकारी प्रदान करती है। यह गण, मैत्री, भाग्य, प्रकृति, स्वभाव, नाड़ी और भकूट दोष जैसे विभिन्न कारकों को प्रकट करता है। ज्योतिषियों के अनुसार, यदि कुंडली मिलान दोनों व्यक्तियों के लिए एक ही नाड़ी की उपस्थिति का संकेत देता है, तो विवाह को आगे न बढ़ाने की सलाह दी जाती है। ऐसा इसलिए क्योंकि इससे बाद में वैवाहिक जीवन में दिक्कतें आ सकती हैं। ऐसी स्थिति में, विवाह के साथ आगे बढ़ने से पहले एक योग्य और सम्मानित विद्वान से मार्गदर्शन लेने की सलाह दी जाती है। इसके अतिरिक्त, वर और वधू के बीच अनुकूलता और सामंजस्य के लिए नाड़ी दोष का समाधान करना भी महत्वपूर्ण है। दूसरी ओर, विवाह के बाद, जोड़े को भकूट दोष के कारण वित्त, मानसिक स्वास्थ्य, शारीरिक कल्याण और समग्र स्थिरता के मामले में चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है। इसलिए, इस पहलू को समझना और संबोधित करना महत्वपूर्ण है।

भकूट दोष का क्या अर्थ है

ज्योतिषियों का मानना ​​है कि भकूट दोष तब होता है जब वर और वधू दोनों की कुंडली में चंद्रमा 6-8, 9-5 या  12-2  भाव में स्थित होता है। सरल शब्दों में, यदि दूल्हे की राशि मेष है और दुल्हन की राशि कन्या है, तो उन्हें छठे और आठवें घर में भकूट दोष होगा। भकूट दोष तीन अलग-अलग तरीकों से प्रकट हो सकते हैं, और भकूट का कुल प्राप्तांक 7 है।

यदि कुंडली मिलान में 6-8 का भकूट दोष मौजूद है, तो यह विवाह के बाद शारीरिक कष्ट का अनुभव होने की संभावित समस्या का संकेत देता है।

यदि कुंडली मिलान से भकूट दोष 9-5 की उपस्थिति का पता चलता है, तो यह संतान प्राप्ति में देरी का संकेत देता है और रिश्ते में दूरियां भी धीरे-धीरे बढ़ने लगती हैं।

यदि वर-वधू की कुंडली मिलान में 12-2 का भकूट दोष हो तो यह आर्थिक समस्या का संकेत देता है। दूसरे शब्दों में, यह व्यापार में घाटे का संकेत देता है और वियोग का जोखिम भी पैदा करता है। फिर भी, ऐसी स्थितियाँ हैं जहाँ भकूट दोष को रोका जा सकता है। इसलिए, भकूट दोष के मुद्दे के समाधान के लिए किसी जानकार पंडित से परामर्श करने की सलाह दी जाती है।

भकूट दोष से निवारण

भकूट दोष का निवारण पूर्ण रूप से नहीं हो पाता है। हालाँकि, सरल कदमों से इसके प्रभाव को कम किया जा सकता है। यदि कोई दोष है तो विवाह करने से पहले भकूट दोष का निवारण करना आवश्यक है। ऐसा करने के लिए आप किसी स्थानीय पंडित से सलाह ले सकते हैं। महामृत्युंजय के पाठ से भकूट दोष का निवारण होता है। विवाह के बाद दुल्हन को गुरुवार का व्रत रखना चाहिए। सुबह स्नान-ध्यान करने के बाद जल में हल्दी मिलाकर केले के पौधे को अर्घ्य देना चाहिए। इसके अतिरिक्त, रोजाना सुबह और शाम हनुमान चालीसा का पाठ करने की सलाह दी जाती है। इन उपायों को करने से भकूट दोष के नकारात्मक प्रभाव कम हो जाते हैं।

अष्टधातु से नवग्रहों के नकारात्मक प्रभावों को कर सकते है कम, मानसिक तनाव से मिलती है राहत

इस रत्न को धारण करने से चमकता है भाग्य, छात्रों को शिक्षा क्षेत्र में मिलती है उन्नति

यह रत्न राहु केतु के प्रभाव को करता है कम, आर्थिक स्थिति में होता है सुधार

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -