Share:
बच्चे के सीने में जमा है कफ तो अपनाएं ये उपाय, मिलेगी राहत
बच्चे के सीने में जमा है कफ तो अपनाएं ये उपाय, मिलेगी राहत

ठंड के मौसम की अचानक शुरुआत के साथ, कई लोग बीमार पड़ रहे हैं, खासकर छोटे बच्चे, जो सर्दी और खांसी के खतरे के प्रति विशेष रूप से संवेदनशील हैं। हालाँकि उन्हें गर्म रखना और बाँधकर रखना आवश्यक है, लेकिन वायरल संक्रमण अक्सर उन्हें पकड़ लेते हैं। परिणामस्वरूप, वे सर्दी, खांसी और यहां तक कि बुखार से पीड़ित हो सकते हैं। इसका सबसे परेशानी वाला पहलू उनके गले और छाती में बलगम का जमा होना है, जिससे असुविधा होती है और कभी-कभी उल्टी भी होती है। इस समस्या को कम करने के लिए पान के पत्तों का उपयोग विशेष रूप से प्रभावी हो सकता है। आइए आपको बताते है कि पान के पत्तों को उपयोग करने का तरीका:-

बच्चों में खांसी और सर्दी के प्रबंधन के लिए पान के पत्तों का उपयोग:
दो वर्ष की आयु के आसपास के बच्चों के लिए जो छाती में जमाव का अनुभव कर रहे हैं, पान के पत्तों का उपयोग निम्नलिखित तरीके से किया जा सकता है:

चरण 1: ताज़े पान के पत्ते लें और उन्हें अच्छी तरह धो लें।
चरण 2: प्रभावी ढंग से रस निकालने के लिए पत्तियों को कुचलें।
चरण 3: दो छोटी इलायची की फली को पीस लें और पाउडर को कुचले हुए पान के पत्तों में मिलाएं।
चरण 4: इस पेस्ट में एक चम्मच शहद मिलाएं।
चरण 5: इस मिश्रण को लगातार तीन दिनों तक बच्चे को दें।
यह उपाय छाती और गले में बलगम को ढीला करने, उसे हटाने में मदद करता है और बच्चे को राहत प्रदान करता है।

एक वर्ष से कम उम्र के बच्चे जिन्हें छाती में जमाव से निपटने में कठिनाई का सामना करना पड़ रहा है, उनके लिए निम्नलिखित कदम उठाए जा सकते हैं:
चरण 1: सरसों के तेल को गुनगुने तापमान पर गर्म करें।
चरण 2: इस गर्म सरसों के तेल से बच्चे की छाती पर धीरे-धीरे मालिश करें।
चरण 3: पान के पत्ते को तवे पर गर्म करें और इसे रात भर के लिए बच्चे की छाती पर रखें।
चरण 4: इस प्रक्रिया को 3-4 रातों तक दोहराएं।
सरसों के तेल और पान के पत्ते की गर्मी बलगम को बाहर निकालने में मदद करती है और बच्चे को अधिक आराम से सांस लेने की अनुमति देती है।

सर्दी के मौसम में छोटे बच्चों के स्वास्थ्य को लेकर सतर्क रहना बहुत जरूरी है, खासकर सर्दी और खांसी को लेकर। पान के पत्ते जैसे प्राकृतिक उपचार, जब सही तरीके से उपयोग किए जाते हैं, तो छाती में जमाव से राहत मिल सकती है और लक्षणों को प्रभावी ढंग से प्रबंधित करने में मदद मिल सकती है। हालाँकि, यदि लक्षण बने रहते हैं या बिगड़ जाते हैं तो हमेशा बाल रोग विशेषज्ञ से परामर्श करने की सलाह दी जाती है। इन घरेलू उपचारों के साथ-साथ, ठंड के मौसम में गर्म और स्वच्छ वातावरण बनाए रखने से बच्चे के समग्र स्वास्थ्य में महत्वपूर्ण योगदान मिल सकता है।

स्किन को नुकसान पहुंचा सकती है ये 5 गलतियां, आज हो जाएं सावधान

जानिए क्यों समय से पहले महिलाओं को बंद हो रहे हैं पीरियड्स?

जानिए क्यों 'मेंटल है क्या' को कर दिया गया 'जजमेंटल है क्या'

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -