IPL-8: जीत की हैट्रिक लगाएगी राजस्थान या हार की हैट्रिक से बचेगी मुंबई

Apr 14 2015 02:16 AM
IPL-8: जीत की हैट्रिक लगाएगी राजस्थान या हार की हैट्रिक से बचेगी मुंबई
style="text-align: justify;">इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के आठवें संस्करण में मंगलवार को मुंबई इंडियंस की टीम राजस्थान रॉयल्स का उनके घरेलू मैदान अहमदाबाद के सरदार पटेल स्टेडियम में सामना करने उतरेगी तो उसका लक्ष्य जीत की पटरी पर लौटना रहेगा, हालांकि रॉयल्स के फॉर्म को देखते हुए उनके लिए यह एक चुनौतीपूर्ण मैच होगा। मुंबई आईपीएल-8 में अब तक अपने दोनों मैच हार चुकी है, जबकि रॉयल्स अब तक खेले अपने दोनों मैच जीतने में सफल रहे हैं।

मुंबई जहां बल्लेबाजी में सतत प्रदर्शन करने में असफल रहा है, वहीं उसकी गेंदबाजी भी प्रभावहीन नजर आई है। पहले मैच में जहां कप्तान सिर्फ दो बल्लेबाजों रोहित शर्मा और कोरी एंडरसन का बल्ला चला, वहीं दूसरे मैच में शीर्ष क्रम के ढहने के बाद हरभजन सिंह और जगदीशा सुचित बल्ले से बेहतर योगदान देने में सफल रहे। एक टीम के रूप में दोनों मैचों में मुंबई के बल्लेबाज संयुक्त योगदान देने में असफल रहे और नतीजा दोनों मैचों में उन्हें हार झेलनी पड़ी।

दूसरी ओर गेंदबाजी में हरभजन सिंह को छोड़कर उनका कोई भी गेंदबाज रनों पर लगाम लगाने में भी सफल नहीं रहा है और दो मैचों में मिलकर वे मात्र आठ विकेट हासिल कर सके हैं। दूसरी ओर विश्व कप विजेता आस्ट्रेलियाई टीम के सदस्य रहे शेन वाटसन, स्टीव स्मिथ और जेम्स फॉल्कनर वाली टीम रॉयल्स की बल्लेबाजी बेहद गहरी नजर आ रही है। पहले मैच में शीर्ष क्रम पर असफल रहे अजिंक्य रहाणे और मध्य क्रम में दीपक हुडा के रविवार को दिल्ली डेयरडेविल्स के खिलाफ मुकाबले में लय में लौटने के साथ ही टीम की बल्लेबाजी बेहद मजबूत नजर आने लगी है।

टीम साउदी, फॉल्कनर और क्रिस मोरिस जैसे धुरंधर गेंदबाजों के अलावा उनके स्पिन गेंदबाज प्रवीण तांबे दोनों ही मैच में रन रोकने में सफल रहे हैं। पहले मैच में दीपक हुडा को गेंदबाजी का मौका नहीं मिला था, लेकिन दूसरे मैच में जब उन्हें मौका दिया गया तो उन्होंने अपनी काबिलियत साबित की।

डेयरडेविल्स के खिलाफ पिछले मैच में टीम से बाहर रहे शेन वाटसन यदि मंगलवार को वापसी करने में सफल रहते हैं तो टीम का मनोबल और मजबूत होगा। मुख्य संरक्षक सचिन तेंदुलकर के मार्गदर्शन में मुंबई इंडियंस जहां अनुभवी, दिग्गजों के सहारे अधिक नजर आती है, वहीं राहुल द्रविड़ के मार्गदर्शन में रॉयल्स युवा प्रतिभाशाली खिलाड़ियों को तराशने वाली टीम की पहचान पा चुकी है।