कैसे करें अपने कंप्यूटर की वायरस से सुरक्षा ?

आज की दुनिया मे इंटरनेट का इस्तेमाल बहुत बढ़ गया है। कंप्यूटर के जरिये ही हम इंटरनेट से जुड़े है। इंटरनेट पर कुछ घातक गतिविधिया भी हो जाती है उन घातक गतिविधियो से बचने के लिये कुछ तरीके बताये गए है जाने इन तरीको को।

1- ईमेल:
ईमेल लोगो के साथ जुडने का एक बहुत अच्छा जरिया है लेकिन कभी ईमेल भी आपके लिये परेशानी खड़ी कर सकता है। अपने ईमेल को सुरक्षित बनाने के लिये इंटरनेट पर आये ऐसे मेल जो आपके काम के नही है उन्हे नही खोलना चाहिए। जिन ईमेल पर अँग्रेजी मे गलत स्पेलिंग लिखी हो और जिसका स्ब्जेक्ट पढ़ कर भी आपको समझ नही आ रहा हो कि क्या लिखा है उस पर कभी भी क्लिक नही करना चाहिए। कई घातक ईमेल मे रिमूव का आप्शन भी आता है आपको उस रिमूव आप्शन पर कभी भी क्लिक नही करना है।

2- पासवर्ड:
पासवर्ड हर व्यक्ति के लिये अपनी एक पहचान होती है इन्टरनेट पर। पासवर्ड किसी गलत व्यक्ति के हाथ मे लगने पर आपकी सारी जानकारी उस व्यक्ति को मिल सकती है। और वो व्यक्ति आपकी जानकारी का गलत इस्तेमाल भी कर सकता है जो आपके लिये अच्छा नही है। जंहा तक हो आप अपना पासवर्ड किसी को भी ना बताये। पासवर्ड मे छोटे और बड़े दोनों अक्षर होना चाहिए। पासवर्ड बहुत कठिन होना चाहिये ताकि कोई भी पासवर्ड पता ना लगा सके। इंटरनेट पर आप अनजान वेबसाइट पर अपना पासवर्ड नही लिखे। ऐसी वेबसाइड पर पासवर्ड लिखना खतरनाक हो सकता है। हर साइड के लिये अपना पासवर्ड अलग रखे और कुछ समय मे अपना पासवर्ड बदलते रहना चाहिये।

3- इंटरनेट पर धोकाधड़ी:
इंटरनेट पर लोगो को हानी पहुचाने वाले बहुत है ऐसे लोगो से हमे बच के रहना चाहिये। हमारे अकाउंट मे पैसों से जुड़े ईमेल भी आते है। ऐसे ईमेल मे हमे कोई भी जानकारी नही भेजना चाहिये। लोगो को इंटरनेट पर फसाने के लिये कुछ चैरिटी के लिए पैसा मांगने, लॉटरी से जुड़े ईमेल भी आते है। इन ईमेल पर कोई भी जानकारी नही देना चाहिये।

4- वायरस: 
आपके कंप्यूटर मे कभी ना कभी वायरस की समस्या तो आई ही होगी। आपको अपने कंप्यूटर को पूरी तरह से वायरस से सुरक्षित रखना चाहिये। अगर आपके सिस्टम मे वायरस है और आपको नही पता है तो आप इन तरीको से पता कर सकते है, जैसे अगर आप कोई प्रोग्राम इंस्टाल कर रहे है और प्रोग्राम इंस्टाल नही हो रहा है, या किसी फाइल का अपने आप  करप्ट होना वायरस के लक्षण है। आप चाहते है कि आपके सिस्टम मे वायरस ना हो तो इसके लिये कुछ तरीके दिये गये है। 

  •  अपने पास एक क्लीन बूट सीडी रखना चाहिये।
  •  अपने सिस्टम मे एंटि वायरस हमेशा रखना चाहिये और एंटि वायरस को हमेशा अपडेट  करते रहना  चाहिये। एंटि वायरस एक ऐसा प्रोग्राम है जो आपके सिस्टम को नुकसान होने से बचाता है। एंटि वायरस आपको अपने कंप्यूटर मे इंस्टाल करना पड़ता है। 
  •  एंटि वायरस को दो तरीके से इस्तेमाल करते है एक तो अगर आपके कंप्यूटर मे कोई वायरस है तो एंटि वायरस उसे हटा देता है और दूसरा ये की अगर वायरस नही हटता है तो एंटि वायरस उसकी एक सिग्नेचर फाइल बना देता है। इसलिए आपके कंप्यूटर मे एंटि वायरस होना बहुत जरूरी है।
  •  जब आप के किसी पहचान वाले का मेल आये तो ही अटैचमेंट खोलना चाहिये। बिना जान पहचान वाले का मेल खोलने से बचना चाहिये।
  •  आप के जीतने भी महत्वपूर्ण फाइल और प्रोग्राम है उन्हे एक सीडी मे लोड कर लेना चाहिये क्यूंकी वायरस आने पर उन्हे कोई नुकसान ना हो और बाद मे आप उनका इस्तेमाल कर सके।
  •  आपके कंप्यूटर मे वायरस आता है तो जल्दी से केबल नेटवर्क को कंप्यूटर से हटा देना चाहिये।
  •  जिस सीडी, डीवीडी या पेन ड्राइव मे वायरस होता है उसे अपने कंप्यूटर मे लगाने से बचना चाहिये।

5 वाई फ़ाई का इस्तेमाल:
आजकल हर जगह वाई फ़ाई का इस्तेमाल बढ़ गया है। वाई फ़ाई वायरस के खतरो से हमे बच के रहना चाहिये। अगर आप वाई फ़ाई इस्तेमाल करते है तो कोई भी आपकी जानकारी पता कर सकता है। आप किसी और का वाई फ़ाई चलाते है और कोई भी मैसेज आपके पास आता है तो उन्हे स्वीकार नही करना चाहिये। अगर आप किसी ऐसी लिंक पर क्लिक करते है जिसे आप नही जानते है तो सामने वाला आपके कंप्यूटर की पूरी जानकारी पता कर सकता है।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -