अयोध्या से आ रही ट्रेन में रामभक्तों को लड़कों ने दी जलाने की धमकी, पुलिस ने बिना कार्रवाई के किया रिहा
अयोध्या से आ रही ट्रेन में रामभक्तों को लड़कों ने दी जलाने की धमकी, पुलिस ने बिना कार्रवाई के किया रिहा
Share:

बेंगलुरु: कर्नाटक से एक चौंकाने वाली घटना सामने आई है यहाँ एक ट्रेन को आग लगाने की धमकी दी गई। यह ट्रेन भी अयोध्या से आ रही थी तथा इसमें भी रामभक्त सवार थे। घटना कर्नाटक के होसपेट की है। अयोध्या से मैसुरु जा रही स्पेशल ट्रेन होपसेट रेलवे स्टेशन पर रुकी हुई थी। कथित तौर पर इसी के चलते ‘अल्पसंख्यक समुदाय’ के लड़कों ने ट्रेन को जलाने की धमकी दी। धमकी देने वाले लड़कों पर ट्रेन में सवार भक्तों से झगड़ा करने के आरोप भी है। कहा जा रहा है कि एक शख्स को गिरफ्तार कर अन्य की तलाश की जा रही है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, बृहस्पतिवार (22 फरवरी 2024) की रात स्पेशल ट्रेन अयोध्या से भक्तों को लेकर मैसुरु लौट रही थी। इसमें बड़े आंकड़े में श्रद्धालु सवार थे। जब ट्रेन होसपेट रेलवे स्टेशन पर पहुँची तो अल्पसंख्यक समुदाय के 3-4 युवक ने शयनयान वाले एक डब्बे S2 में चढ़ने का प्रयास किया। इसमें उपस्थित भक्तों ने जब उन्हें रोकने का प्रयास किया तो वे लड़ाई-झगड़ा करने लगे तथा धमकाने लगे। उन्होंने श्रद्धालुओं से कहा कि ट्रेन किसी के बाप की नहीं है। तत्पश्चात, इन लड़कों ने ट्रेन को जलाने की धमकी दी। फिर श्रद्धालु गुस्से में आ गए और वह स्टेशन पर आकर प्रदर्शन करने लगे।

कहा जा रहा है कि ट्रेन को जलाने की धमकी देने के बाद लड़कों को श्रद्धालुओं ने पकड़ लिया। उन्होंने इन्हें स्टेशन पर उपस्थित पुलिस को सौंप दिया। मीडिया रिपोर्ट में बताया गया है कि पुलिस इन्हें थाने ले गई, मगर कोई कार्रवाई नहीं की। कथित तौर पर कुछ देर पश्चात् इन्हें छोड़ दिया गया। श्रद्धालुओं ने पुलिस के इस बर्ताव पर नाराजगी जताई तथा कहा कि लड़कों को गिरफ्तार कर FIR दर्ज की जानी चाहिए। विश्व हिन्दू परिषद समेत अन्य हिंदू संगठनों को जब इस घटना की जानकारी मिली तो वे भी विरोध प्रदर्शन में सम्मिलित हो गए। श्रद्धालुओं को धमकी दिए जाने की वजह से ट्रेन एक घंटे स्टेशन पर खड़ी रही।

कहा जा रहा है कि अब इस मामले में पुलिस ने एक लड़के को गिरफ्तार किया है। एक टीवी चैनल ने बताया है कि अयोध्या स्पेशल ट्रेन जलाने की धमकी देने में गिरफ्तार किए जाने वाले लड़के का नाम ‘शेख साब’ है। वह रेलवे का कर्मचारी भी बताया जा रहा है। वह रेलवे में ग्रुप सी का कर्मचारी बताया गया है। गौरतलब है कि 27 फरवरी 2002 को अयोध्या से कारसेवकों को वापस लेकर आ रही एक ट्रेन को गुजरात के गोधरा में मुस्लिम भीड़ ने जला दिया था। इस मामले में 59 हिंदू भक्त जीवित जल गए थे। इसमें 27 महिलाएँ एवं 10 बच्चे भी थे। तत्पश्चात, गुजरात में दंगे भड़क गए थे।

पटना में मचा बवाल! स्थायी नौकरी की मांग कर रहे ग्राम रक्षा दल के लोगों पर पुलिस ने किया लाठीचार्ज

टर्म इंश्योरेंस लेते समय मेडिकल टेस्ट अनिवार्य क्यूँ होते हैं?

नहीं रहे महाराष्ट्र के पूर्व CM मनोहर जोशी, 86 साल की उम्र में ली अंतिम सांस

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -