इंटिमेट सीन से पहले रोने लगीं ये अदाकारा, देखकर एक्टर ने लगाई डांट और फ‍िर...
इंटिमेट सीन से पहले रोने लगीं ये अदाकारा, देखकर एक्टर ने लगाई डांट और फ‍िर...
Share:

बॉलीवुड फिल्मों की जानी मानी मशहूर अभिनेत्री शबाना आजमी ने शशि कपूर के लिए अपनी दीवानगी के बारे में बात की है। साथ ही उन्होंने बताया कि कैसे शशि कपूर ने उनके साथ रूखा बर्ताव किया था। 5 बार नेशनल अवॉर्ड जीतने का रिकॉर्ड बना चुकीं शबाना ने बताया कि वो 9 वर्ष की आयु से शशि कपूर की प्रशंसक थीं। शशि के लिए उनकी दीवानगी इतनी पक्की थी कि वो उनकी फोटोज खरीदने के लिए पॉकेट बचाया करती थीं। लेकिन जब अचानक उन्हें शशि कपूर के साथ फिल्म करनी पड़ी तो कुछ ऐसा हुआ कि उनके व्यवहार से शबाना का दिल टूट गया। 

अपने एक इंटरव्यू में शबाना ने बताया कि शशि कपूर एकमात्र एक्टर थे जिनका ऑटोग्राफ उन्होंने उनकी फोटो पर लिया था। शबाना ने बताया कि शशि हर रविवार अपने परिवार के साथ, अपने पिता पृथ्वीराज कपूर से मिलने आते थे, जो उनके पड़ोसी थे। उन्होंने बताया, 'तो मैं अपनी पॉकेट मनी बचाती थी तथा शशि कपूर की ब्लैक एंड वाइट फोटोग्राफ खरीदती थी एवं हर रविवार जाकर उनका ऑटोग्राफ लेती थी।' शबाना ने बताया कि जब अचानक उन्हें शशि के अपोजिट 'हीरा और पत्थर' में कास्ट किया गया तो उन्हें भरोसा नहीं हुआ। मगर शशि कपूर ने उन्हें झाड़ लगा दी थी। हालांकि, उन्होंने कहा कि ये उनका 'प्यार दिखाने का तरीका' था। शबाना ने शशि के साथ अपनी फिल्म 'फकीरा' (1976) के गाने 'दिल में तुझे बिठाकर' का उदाहरण देते हुए बताया, 'मैं उनके आने से पहले सेट पर पहुंच गई सत्यनारायण जी कोरियोग्राफी कर रहे थे और मैंने देखा कि स्टेप्स बहुत इंटिमेट थे। मैं उस समय बहुत यंग थी एवं मेरी आंखों में आंसू आ गए, मैं सेट्स से चली गई और मेरा दिल बेचैन हो रहा था क्योंकि मैं सच में वो शॉट्स नहीं करना चाहती थी।' 

शबाना ने बताया कि वो अंदर जाकर, अपने हेयरड्रेसर के पास बैठकर रोने लगीं तथा अचानक दरवाजे पर जोर से नॉक हुई। शबाना ने बताया, 'वो शशि कपूर थे। आते ही बोले 'क्या दिक्कत है तुम्हारी'।' जब शबाना ने उन्हें बताया कि वो इस प्रकार के सीन्स नहीं कर सकतीं तो उन्होंने कहा- 'क्यों, जब तुम एक्ट्रेस बनीं एवं कहा कि मम्मी, मम्मी मैं भी एक्ट्रेस बनूंगी।।। तब तुमको खयाल नहीं आया कि इस तरीके की चीजें तुमको करनी हैं? बेवकूफ लड़की।' शबाना ने बताया कि इतना कहकर शशि कपूर चले गए। आगे शबाना ने बताया, 'मैंने अपने हेयर ड्रेसर को देखा और कहा- 'कितने बेकार हैं वो, मुझे कैसे सुना गए देखिए।' और फिर आधे घंटे बाद, मैं सेट पर गई तथा उन्होंने सारे स्टेप्स बदलवा दिए थे। वो इस प्रकार के आदमी थे।' प्यार दिखाने के इस तरीके के लिए शशि कपूर को 'क्रेजी' बोलते हुए शबाना ने बताया कि जब वो स्लम में रहने वालों के समर्थन में भूख हड़ताल पर बैठी थीं तब भी उन्होंने बड़ा किरदार अदा किया था। हालांकि, उन्होंने कभी इसका श्रेय नहीं लिया। शबाना ने बताया कि उनकी भूख हड़ताल के चलते केवल शशि कपूर ही उनसे मिले पहुंचे थे। 

वही उनकी मांगें लेकर, तत्कालीन सीएम एस।बी। चव्हाण के पास पहुंचे थे तथा कहा था, 'फिल्म इंडस्ट्री आपके लिए इतना कुछ करती है एवं हमारी इंडस्ट्री के मुख्य लोगों में से एक भूख हड़ताल पर है, आपको कुछ करना पड़ेगा।' 5 दिनों से जारी ये भूख हड़ताल शशि के कारण ही हल हुई थी। और जब शबाना ने मंच से शशि कपूर को श्रेय देना चाहा तो उन्होंने कहा, 'नहीं, ये तुम्हारी जीत है।' शशि कपूर एवं शबाना आजमी ने 'हीरा और पत्थर' (1977), चोर सिपाही (1977), 'अतिथि' (1978) और 'ऊंच नीच' (1989) जैसी फिल्मों में साथ काम किया था। शशि कपूर ने बहुत लंबे वक़्त बीमार रहने के बाद 4 दिसंबर, 2017 को अपनी अंतिम सांसें ली थीं।  

संजय लीला भंसाली की भांजी ने सबके सामने की संजीदा शेख की 'बेइज्जती', देखकर भड़के लोग

डेविड धवन को लेकर फिल्ममेकर का चौंकाने वाला खुलासा, वोले- 'उन्होंने गोविंदा को बहकाया'

KKR के जीतते ही पापा शाहरुख के गले लगकर रोने लगी सुहाना, बोली- 'मैं बहुत खुश हूं'

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -