Economics से MA करने वाली यह टीचर बेच रही है झाडू

इंदौर: कहते है की तक़दीर कब किसको कहां ले जाएं यह यह कोई नही जनता, ऐसा ही एक मामला सामने आया इंदौर में जहा एरोड्रम रोड के सुखदेव नगर निवासी एक बुजुर्ग महिला जिन्होंने इकनोमिक्स में M.A की पढ़ाई कर रखी है लेकिन वो आज गली-गली झाड़ू बेचने पर मजबूर है। इस महिला का नाम लीला वर्मा है। वह इंदौर जिले में वर्ष 1982 में आयोजित शिक्षक चयन परीक्षा में पास हुईं और 4 सितंबर 1982 को नौकरी जॉइन की थी।

अर्थशास्त्र में MA करने के बाद बीएड भी नौकरी में आने के पहले ही पास कर ली थी। जिले की सांवेर तहसील के धरमपुरी गांव में उन्होंने एक दशक तक सरकारी नौकरी की। 1995 में उन्हें परीक्षा कार्यालय में अटैच्ड कर दिया गया। यह सब उस समय हुआ जब सरकार 5वीं और 8वीं बोर्ड खत्म करने की तैयारी कर रही थी। अचानक इन कार्यालयों का स्टाफ सीमित कर दिया गया, लेकिन लीला को न तो स्कूल के लिए रिलीव किया गया और न ही बोर्ड कार्यालय से उपस्थिति दी गई।

इस तरह बेवजह उनकी नौकरी ही खत्म हो गई। लीला का कहना है कि न मैं विधवा हूं और न ही परित्यक्ता। मैंने विवाह नहीं किया है। जब से होश संभाला, किसी पर बोझ नहीं बनी। दिनभर में करीब 60 झाड़ू बेच लेती हूं, जिससे मेरा गुजारा हो जाता है।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -