राजौरी के लोगो का दावा: नेताजी सुभाष चंद्र बोस इस कुटिया में रहते थे

राजौरी: जम्मू-कश्मीर के राजौरी शहर से 25 किलोमीटर दूर दलहौड़ी गांव के लोगों का दावा है कि उनके गांव में कुटिया बनाकर रहने वाले साधु ही नेता जी सुभाष चंद बोस थे। लोगो की नजरे बंगाल सरकार पर है क्योँकि वे नेताजी से संबंधित दस्तावेजो का ब्यौरा उपलब्ध कराएंगे. यहां के लोगो का मानना है की नेताजी की समाधि यही पर है. लोगो का कहना है की यहां पर स्थित एक मंदिर में नेताजी से जुड़े कई तथ्य है व स्थानीय लोगो का कहना है की 1970 के दशक में एक महात्मा इस गांव में आया और कुटिया बनाकर रहने लगा। धीरे-धीरे वहां लोगों का आना जाना शुरू हो गया और 1973 में यहां पहुंचने वालों की संख्या हजारों में हो गई। 

लोग उन्हें महात्मा जी कहते थे और मानते थे कि महात्मा जी ही नेता जी सुभाष चंद्र बोस थे। यहां के लोगो द्वारा नेता जी सुभाष चंद बोस की जन्म तिथि व पुण्य तिथि इस मंदिर में मनाई जाती है. इन महात्मा जी को डर था की कही कांग्रेस सरकार उन्हें अंग्रेजो के हवाले न कर दे. एक स्थानीय निवासी ने दावा किया है की में बारह साल तक महात्मा जी के साथ था व आगे कहा की इनसे मिलने बंगाल के भी लोग आते थे. 

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -