अध्ययन से पता चलता है कि डोपामाइन का स्तर मस्तिष्क में इंसुलिन से प्रभावित होता है

वाशिंगटन: इंसुलिन स्ट्रिएटम में डोपामाइन के स्तर को कम करता है, एक मस्तिष्क क्षेत्र जो अन्य चीजों के अलावा प्रसंस्करण और संज्ञानात्मक कार्य को प्रभावित करता है। यह संबंध मस्तिष्क के ग्लूकोज और खाने के व्यवहार के नियमन में भूमिका निभा सकता है।

ट्यूबिंगन में जर्मन सेंटर फॉर डायबिटीज रिसर्च (डीजेडडी) के शोधकर्ताओं ने हाल ही में 'जर्नल ऑफ क्लिनिकल एंडोक्रिनोलॉजी एंड मेटाबॉलिज्म' में एक अध्ययन प्रकाशित किया है जिसमें दिखाया गया है कि हार्मोन इंसुलिन मानव मस्तिष्क में इनाम प्रणाली, डोपामाइन के लिए सबसे आवश्यक न्यूरोट्रांसमीटर पर काम करता है।

मोटापा और टाइप 2 मधुमेह दुनिया भर में तेजी से आम होते जा रहे हैं। अध्ययनों के अनुसार, मस्तिष्क विभिन्न रोगों के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इनाम प्रणाली का सबसे आवश्यक न्यूरोट्रांसमीटर डोपामाइन है। इंसुलिन एक हार्मोन है जो मानव शरीर में मेटाबोलिज्म को नियंत्रित करता है और भोजन (होमियोस्टैटिक सिस्टम) के बाद जारी किया जाता है। यह स्पष्ट नहीं है कि ये दोनों प्रणालियाँ कैसे परस्पर क्रिया करेंगी।

दूसरी ओर, इन प्रणालियों में परिवर्तन मोटापे और मधुमेह से संबंधित हैं। ट्यूबिंगन विश्वविद्यालय में हेल्महोल्ट्ज़ ज़ेंट्रम मुन्चेन के इंस्टीट्यूट ऑफ डायबिटीज़ रिसर्च एंड मेटाबोलिक डिज़ीज़ (IDM) के शोधकर्ताओं, और ट्यूबिंगन यूनिवर्सिटी हॉस्पिटल (इननेर IV, निदेशक: प्रोफेसर एंड्रियास बिरकेनफेल्ड) ने जांच की कि दोनों सिस्टम कैसे इंटरैक्ट करते हैं।

रिलीज हुआ तड़प का दूसरा ट्रेलर, खतरनाक और रहस्यमयी है कहानी

लड़के को लगी मोबाइल की ऐसी लत की भूल बैठा अपना सबकुछ

'यूपी में मुसलमानों से अधिक गाय की इज्जत..', ओवैसी ने फिर दिया भड़काऊ बयान

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -