सिर्फ 45 दिन तक ही जी पाती है मधुमक्खियां, जानें तथ्य

सिर्फ 45 दिन तक ही जी पाती है मधुमक्खियां, जानें तथ्य

एक मधुमक्खी अपने जीवनकाल में एक चम्मच शहद भी इकठ्ठा नहीं कर पाती हैं. इस बात को जानकर आप भी सोच रहे होंगे कि वो इतना सारा शहद इकट्ठा कैसे कर सकती हैं. आयुर्वेदिक दवाई को दूध और शहद के साथ ही लिया जाता हैं क्योंकि ये दोनों आहार पौष्टिक तत्वों से भरपूर होते हैं. दूध तो हमें गाय से मिलता हैं और शहद की प्राप्ति होती हैं मधुमक्खी से. ऐसे में हम आपको मधुमक्खियों से जुड़े मजेदार और रोचक तथ्यों की जानकारी देने जा रहे हैं जो आपको बेहद पसंद आएँगे.

- मधुमक्खियाँ छत्ते बनाकर रहती है. इनका छत्ता मोम से बना होता है जो इनके पेट की ग्रंथियों से निकलता है.

- हर मधुमक्खी के छत्ते में एक रानी मक्खी, कुछ सौ नर और 99 फीसदी मादा मक्खियाँ होती है जो शहद बनाने का काम करती हैं.

- हर छत्ते में नर मक्खियों की संख्या बेहद कम होती है, उनका काम केवल रानी मधुमक्खी से सेक्स कर गर्भाधान करना है. गर्भाधान के लिए कई नर प्रयास करते हैं जिनमें एक ही सफल हो पाता है.

- मधुमक्खियाँ सिर्फ आधा किलो शहद बनाने के लिए बीस लाख फूलों का उपयोग करती है और 1 लाख किलोमीटर से भी ज्यादा यात्रा करती हैं. इतनी यात्रा धरती के ढाई चक्कर लगाने के बराबर है.

- मधुमक्खियों का छत्ता छः कोने आकार वाला होता है जिसे मधुमक्खियाँ कम से कम मोम इस्तेमाल करके हल्का लेकिन मज़बूत बनाती हैं, और इनमें खूब सारा शहद इकट्टठा करती हैं.

- आज वैज्ञानिक तौर पर भी यह सिद्ध हो चुका है कि छः कोनों वाला आकार त्रिकोण, चौकोर जा किसी भी और आकार से बेहतर होता है जिसमें सबसे कम समान की लागत से ज्यादा से ज्यादा जगह घेरी जा सकती है.

- आपको जानकर हैरानी होगी कि एक मधुमक्खी औसतन 45 दिन की जिंदगी जीती है और इतने में वह सिर्फ एक चम्मच के 12वें हिस्से जितना ही शहद बना पाती हैं.

- मधुमक्खियों के एक छत्ते में 30 से 60 हज़ार मक्खियाँ होती है जो एक साल में 30 से 50 किलो शहद पैदा कर देती हैं.

- एक मधुमक्खी एक सैंकेड में 183 बार अपना पंख फड़फड़ा सकती है.

- शहद कीड़ो द्वारा बनाया गया एकलौता ऐसा पदार्थ है जिसे इंसानो द्वारा खाया जाता है.

3 दिल और नीले खून के साथ जीता ऑक्टोपस, जानिए इसकी अनजानी बातें

तो क्या आप जानते हैं मेट्रो स्टेशन पर क्यों होती है पिली लाइन!

एक बाल की हरकत भी सुन सकता है चमगादड़, जानें फैक्ट्स