औरंगाबाद हिंसा के आरोप में दो पार्षद गिरफ्तार

औरंगाबाद: महाराष्ट्र के औरंगाबाद में कथित तौर पर पानी के लिए भड़की हिंसा ने मंगलवार को विकराल रूप धारण कर लिया था, जिसमे 2 लोगों कि मौत हो गई थी और लगभग 30 लोग घायल हो गए थे. जिसके बाद से महाराष्ट्र पुलिस पर इस विवाद के आरोपियों के खिलाफ कार्यवाही करने का दबाव था. इसी तर्ज पर महाराष्ट पुलिस ने दंगा भड़काने के आरोप में शिवसेना और मजलिसे इत्तेहादुल मुसलमीन पार्टी के एक-एक विधायक को गिरफ्तार कर लिया है.

शिवसेना के पार्षद राजेंद्र जंजाल के खिलाफ पुलिस ने  ipc की धारा 436 के तहत आगजनी करने का मामला दर्ज किया और उन्हें उनके घर से गिरफ्तार किया. पार्षद राजेंद्र का एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमे वे राजाबाजार इलाके में गाड़ियों को आग लागाते दिखाई दे रहे हैं. राजेंद्र को औरंगाबाद की जिला अदालत ने 18 मई तक पुलिस हिरासत में भेज दिया है. उनके खिलाफ आईपीसी की धारा 143,147,150,435,436 के तहत भी मामले दर्ज किए गए हैं.

वहीं मजलिसे इत्तेहादुल मुसलमीन (MIM) के पार्षद और औरंगाबाद महानगरपालिका के विरोधी पक्ष नेता फिरोज खान ने खुद जाकर सिटी कोतवाली में आत्मसमर्पण कर दिया. उन्हें भी औरंगाबाद अदालत ने 3 दिन की पलिस हिरासत में भेज दिया है.  एक और MIM विधायक इमितियाज़ जलील का दावा है कि उनके पार्टी के पार्षद को बेवजह सताया जा रहा है. वहीं पुलिस डीसीपी विनायक ढाकणे के मुताबिक पुलिस की प्राथमिक जांच में  MIM पार्षद फिरोज खान के खिलाफ अच्छे खासे सबूत हैं, यही कारण है कि उनकी गिरफ्तारी हुई है. आपको बता दें कि कथित तौर पर ये दंगे नगरनिगम द्वारा नल कनेक्शन काटे जाने पर भड़के थे, लेकिन बाद में इसने सांप्रदायिक रंग ले लिया था.

औंरगाबाद दंगा बीजेपी की चाल है...

दंगाइयों ने औरंगाबाद हिंसा को दिया मज़हबी दंगे का रंग

पानी की आग में जला औरंगाबाद, लगी धारा 144

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -