'लगता है दुल्हन को लेकर ओवैसी का जुनून जारी है', पलटवार कर बोलीं शिवसेना सांसद

शिवसेना सांसद प्रियंका चतुर्वेदी ने हाल ही में एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी के दुल्हन वाले बयान पर पलटवार किया है। जी दरअसल प्रियंका चतुर्वेदी ने कहा कि, 'दुल्हन को लेकर उनका जुनून अब भी जारी है।;' जी दरअसल बीते शनिवार को महाराष्ट्र के भिवंडी में एक रैली को संबोधित करते हुए एनसीपी, कांग्रेस और शिवसेना पर एक साथ निशाना साधा था। बीते दिनों ओवैसी ने कहा था कि, 'शिवसेना और बीजेपी को सत्ता में आने से रोकने के लिए एनसीपी के नेताओं को 2019 के महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में AIMIM को वोट देने के लिए कहा गया था। लेकिन एनसीपी ने चुनाव के बाद उद्धव ठाकरे की पार्टी से शादी कर ली।'

वहीं इसके बाद ओवैसी ने कहा कि, 'मुझे नहीं पता कि तीनों पार्टियों में दुल्हन कौन है।' अब असदुद्दीन ओवैसी की टिप्पणी पर प्रियंका चतुर्वेदी ने ट्वीट कर कहा- 'असदुद्दीन ओवैसी का दुल्हनों के प्रति जुनून जारी है, पहले मुगल पत्नियों के साथ और अब भिवंडी में।' इसी के साथ उन्होंने आगे कहा कि, 'जब वर्चुअल स्पेस में बुली बाई और सुली डील्स जैसी ऐप पर मुस्लिम महिलाओं की नीलामी हो रही थी तब हैदराबाद के सांसद गायब थे।'

आगे प्रियंका चतुर्वेदी ने कहा कि, 'असदुद्दीन ओवैसी की मानसिकता बीजेपी से अलग नहीं है' जी दरअसल भवंडी में असदुद्दीन ओवैसी ने देश में चल रहे मंदिर-मस्जिद विवाद को लेकर कहा था कि भारत किसी एक कौम का नहीं है, भारत द्रविड़ों और आदिवासियों का है। इसके अलावा उन्होंने कहा कि- 'यह भारत ना मेरा है, ना उद्धव ठाकरे का है, ना नरेंद्र मोदी का है, ना अमित शाह का है। अगर भारत किसी का है तो द्रविड़ों और आदिवासियों का है। लोग चार अलग-अलग जगहों से आए थे लेकिन बीजेपी मुगलों के पीछे ही आई थी।'

इसी के साथ ओवैसी ने ये भी कहा कि, 'अगर कोई पीएम मोदी, उद्धव ठाकरे, शरद पवार या योगी आदित्यनाथ के खिलाफ बोलता है, तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाती है। लेकिन जब कोई हमारी आस्था के खिलाफ कुछ कहता है तो कानूनी कार्रवाई भी नहीं की जाती।'

GT vs RR, IPL 2022 Final: जीतने वाले पर होगी पैसो की बारिश, जानिए किस को मिलेगा कितना रुपया?

माँ भी है और स्वीपर भी: बच्चे को पीठ से बांधकर सड़क की सफाई करती हैं लक्ष्मी मुखी

पुलिस को नहीं बनाने दिया संबंध तो रातभर कपड़े उतरवाकर की पिटाई, रोंगटे खड़ी कर देने वाली ट्रांस फोटो जर्नलिस्ट की कहानी

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -