Share:
शादियों के सीजन पर शनि का साया! शादी से पहले जान ले ये जरुरी बातें
शादियों के सीजन पर शनि का साया! शादी से पहले जान ले ये जरुरी बातें

शादी के सीजन में शनि की कुदृष्टि बहुत बुरी सिद्ध हो सकती है। 4 माह का चार्तुमास समाप्त होने के पश्चात् देवउठनी एकादशी से शादी के शुभ मुहूर्त आरम्भ हो रहे हैं किन्तु इसी के चलते शनि भी एक अशुभ योग बना रहा है। ऐसे में प्रश्न यह है कि इस के चलते शादी करने वाले व्यक्तियों के दांपत्‍य जीवन पर शनि के इस अशुभ योग का कैसा प्रभाव होगा। 

सूर्य-गुरु भी बदल रहे हैं राशि:- 
ज्योतिष के अनुसार, नवंबर 2021 में 2 अहम ग्रह राशि परिवर्तन कर रहे हैं। 16 नवंबर 2021 को सूर्य वृश्चिक राशि में प्रवेश कर चुके हैं तथा 20 नवंबर 2021 को गुरु कुंभ राशि में गोचर करेंगे। इसका सीधा प्रभाव 12 राशियों के लोगों के अतिरिक्त शादियों पर भी पड़ेगा। वैसे ज्‍योतिष शास्‍त्र में सभी ग्रहों में गुरु को सबसे शुभ ग्रह कहा गया है। वहीं वृश्चिक राशि के सूर्य शादी-विवाह के लिए उत्तम माने जाते हैं। लिहाजा यह दोनों बदलाव शादी करने वालों के लिए बेहतर रहेंगे। 

शनि के अशुभ योग का ऐसा होगा प्रभाव:- 
ज्‍योतिष शास्‍त्र में सूर्य एवं गुरु की युति बहुत शुभ मानी जाती है। यह युति शादी-विवाह के मार्ग खोलती है। नवंबर-दिसंबर के मध्य बन रहे ये शुभ संयोग न सिर्फ विवाह करने के लिए शुभ हैं, बल्कि इस के चलते शादी करने वालों का दांपत्य जीवन सुख-समृद्धि वाला रहेगा। इसके अतिरिक्त गुरु का राशि परिवर्तन सवार्थसिद्धि योग में होने से यह बदलाव बहुत शुभ और लाभदायी रहेगा। यह शादी-विवाह के लिए भी उत्तम रहेगा। वहीं जिन व्यक्तियों के विवाह में समस्याएं उत्पन्न हो रही हैं, वे भी विधि-विधान से विष्‍णु-लक्ष्‍मी की पूजा करें तो उनका रिश्‍ता शीघ्र पक्‍का हो सकता है। कुल मिलाकर विवाह के यह सभी शुभ संयोग शनि के अशुभ योग को समाप्त कर देंगे। 

580 साल बाद लगने जा रहा ऐसा चंद्र ग्रहण, जानिए क्यों है इतना खास?

आप नहीं जानते होंगे बाप्पा से जुड़ी ये रोचक बातें

शिव-हरी को समर्पित है वैकुंठ चतुर्दशी, जानिए इससे जुड़ी कथा

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -