Share:
आज जरूर पढ़ें शनि देव से जुड़ी ये पौराणिक कथा
आज जरूर पढ़ें शनि देव से जुड़ी ये पौराणिक कथा

शनिदेव न्याय प्रिय देवता हैं तथा मनुष्य को उसके कर्मों के आधार पर फल देते हैं. हिंदू पंचांग में ज्येष्ठ मास की अमावस्या तिथि को शनि जयंती मनाई जाती है. इस दिन पूजा-अर्चना करने से शनिदेव की खास कृपा मिलती है. शनि जयंती पर दान-दक्षिणा की भी खास अहमियत होती है. हिंदू शास्त्रों के मुताबिक, इस दिन शनिदेव का का जन्म हुआ था. इस बार शनि जयंती 19 मई, शुक्रवार को मनाई जाएगी. प्राचीन ग्रंथों के मुताबिक, शनिदेव ने शिव भगवान की भक्ति व तपस्या से नवग्रहों में सर्वश्रेष्ठ स्थान प्राप्त किया है।

शनि देव की पौराणिक कथा:-
एक वक़्त सूर्यदेव जब गर्भाधान के लिए अपनी पत्नी छाया के पास गए तो छाया ने सूर्य के प्रचंड तेज से भयभीत होकर अपनी आंखें बंद कर ली थीं। कालांतर में छाया के गर्भ से शनिदेव का जन्म हुआ। शनि के श्याम वर्ण (काले रंग) को देखकर सूर्य ने अपनी पत्नी छाया पर यह आरोप लगाया कि शनि मेरा बेटा नहीं है तभी से शनि अपने पिता सूर्य से शत्रुता रखते हैं। शनिदेव ने अनेक सालों तक भूखे-प्यासे रहकर शिव आराधना की तथा घोर तपस्या से अपनी देह को दग्ध कर लिया था, तब शनिदेव की भक्ति से खुश होकर महादेव ने शनिदेव से वरदान मांगने को बोला।
 
वही शनिदेव ने प्रार्थना की- युगों-युगों से मेरी मां छाया की पराजय होती रही है, उसे मेरे पिता सूर्य द्वारा बहुत अपमानित व प्रताड़ित किया गया है इसलिए मेरी माता की इच्छा है कि मैं (शनिदेव) अपने पिता से भी अधिक शक्तिशाली व पूज्य बनूं। तब भगवान महादेव ने उन्हें वरदान देते हुए कहा कि नवग्रहों में तुम्हारा स्थान सर्वश्रेष्ठ रहेगा। तुम पृथ्वीलोक के न्यायाधीश व दंडाधिकारी रहोगे। साधारण मानव तो क्या- देवता, असुर, सिद्ध, विद्याधर तथा नाग भी तुम्हारे नाम से भयभीत रहेंगे। ग्रंथों के मुताबिक, शनिदेव कश्यप गोत्रीय हैं तथा सौराष्ट्र उनका जन्मस्थल माना जाता है।

'बाबा बागेश्वर का सहारा लेकर हिंदू राष्ट्र की बात कर रही है', JDU का BJP पर हमला

शनि जयंती पर करें इस स्तोत्र का पाठ, जानिए पूजा विधि

बागेश्वर बाबा के दरबार में पहुंचीं अक्षरा सिंह, वीडियो सामने एते ही लोगों ने कर दिया ट्रोल

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -