छींक से जुड़े शगुन अपशगुन

छींक से जुड़ी ऐसी अनेक मान्यताएं हमारे समाज में प्रचलित हैं. चिकित्सा विज्ञान के नजरिए से छींक आना एक सामान्य मानवीय प्रक्रिया है.

1- शकुन शास्त्र के अनुसार किसी मित्र या रिश्तेदार के यहाँ जाते समय कोई उसके बांई ओर छींकता है तो यह अशुभ संकेत है. अगर जरूरी न हो तो ऐसी यात्रा टाल देनी चाहिए.

2- यदि कोई व्यक्ति दिन के प्रथम प्रहर सुबह 6 से 9 बजे तक में पूर्व दिशा की ओर छींक की ध्वनि सुनता है तो उसे अनेक कष्ट झेलने पड़ते हैं. दूसरे प्रहर सुबह 9 से दोपहर 12 बजे तक में सुनता है तो शारीरिक कष्ट, तीसरे प्रहर  दोपहर 12 से 3 बजे तक में सुनता है तो दूसरे के द्वारा स्वादिष्ट भोजन की प्राप्ति और चौथे प्रहर दोपहर 3 से शाम 6 बजे तक में सुनता है तो किसी मित्र से मिलना होता है.

3- कोई वस्तु खरीदते समय यदि छींक आ जाए तो खरीदी गई वस्तु से लाभ होता है.

4- सोने से पहले और जागने के तुरंत बाद छींक की ध्वनि सुनना अशुभ माना जाता है.

5- यदि घर से निकलते समय कोई सामने से छींकता है तो कार्य में बाधा आती है. अगर एक से अधिक बार छींकता है तो कार्य सरलता से हो जाता है.

रोगों के नाश के लिए इन मंत्रो का जाप

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -