भद्दी गाँठ को ऐसे निकाले

कचनार की ताजी छाल 25-30 ग्राम (सुखी छाल 15 ग्राम ) को मोटा मोटा कूट ले. 1 गिलास पानी मे उबाले. जब 2 मिनट उबल जाए तब इसमे 1 चम्मच गोरखमुंडी (मोटी कुटी या पीसी हुई ) डाले. इसे 1 मिनट तक उबलने दे और छान ले. हल्का गरम रह जाए तब पी ले. 

ध्यान दे यह कड़वा है परंतु चमत्कारी है. गांठ कैसी ही हो, प्रोस्टेट बढ़ी हुई हो, जांघ के पास की गांठ हो, काँख की गांठ हो गले के बाहर की गांठ हो, गर्भाशय की गांठ हो, स्त्री पुरुष के स्तनो मे गांठ हो या टॉन्सिल हो, गले मे थायराइड ग्लैण्ड बढ़ गई हो  या फैट की गांठ हो लाभ जरूर करती है. कभी भी असफल नहीं होती. 

अधिक लाभ के लिए दिन मे 2 बार ले. लंबे समय तक लेने से ही लाभ होगा. 20-25 दिन तक कोई लाभ नहीं होगा निराश होकर बीच मे न छोड़े. गाँठ को घोलने में कचनार पेड़ की छाल बहुत अच्छा काम करती है.

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -