श्रीमद भगवत गीता

जो अपने हिस्से का काम

किये बिना ही भोजन

पाते है, वे चोर हैंै.

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -