Share:
अंतरिक्ष में फिर इतिहास रचने को तैयार ISRO, 2024 में 12 अहम मिशन होंगे लॉन्च
अंतरिक्ष में फिर इतिहास रचने को तैयार ISRO, 2024 में 12 अहम मिशन होंगे लॉन्च

नई दिल्ली: भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) अगले दो वर्षों में अन्वेषण, संचार और नवाचार पर ध्यान केंद्रित करते हुए अंतरिक्ष मिशनों की एक प्रभावशाली श्रृंखला के लिए तैयारी कर रहा है। जैसे-जैसे 2024 नजदीक आ रहा है, इसरो ने एक रोडमैप की रूपरेखा तैयार की है जिसमें 12 महत्वपूर्ण मिशन शामिल हैं, जिनमें से प्रत्येक का उद्देश्य भारत की अंतरिक्ष क्षमताओं की सीमाओं को आगे बढ़ाना है। सबसे प्रतीक्षित मिशनों में से एक नासा-इसरो सिंथेटिक एपर्चर रडार (एनआईएसएआर) है, जो नासा और इसरो के बीच एक सहयोगात्मक प्रयास है। 2024 में लॉन्च होने वाला एनआईएसएआर पहला डुअल-बैंड रडार इमेजिंग उपग्रह होगा, जो पृथ्वी अवलोकन के लिए महत्वपूर्ण डेटा प्रदान करेगा। यह मिशन अंतरिक्ष अन्वेषण में बढ़ते अंतर्राष्ट्रीय सहयोग को रेखांकित करता है।

एनआईएसएआर के अलावा, इसरो के पास क्षितिज पर कई अन्य महत्वाकांक्षी परियोजनाएं हैं। INSAT-3DS, एक संचार उपग्रह, भारतीय राष्ट्रीय उपग्रह प्रणाली श्रृंखला का हिस्सा है, जो मौसम विज्ञान और आपदा प्रबंधन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। RISAT-1B और रिसोर्ससैट-3 भारत की रिमोट सेंसिंग क्षमताओं को बढ़ाने के लिए तैयार हैं, जबकि TDS01 और SPADEX चंद्र मिशनों को आगे बढ़ाने के लिए तकनीकी अनुसंधान और प्रयोग को आगे बढ़ाएंगे। ओशनसैट-3ए समुद्र विज्ञान और वायुमंडलीय अध्ययन में अपने पूर्ववर्तियों की विरासत को जारी रखेगा। भारतीय डेटा रिले सैटेलाइट सिस्टम (आईडीआरएसएस) का लक्ष्य रिमोट सेंसिंग और वैज्ञानिक उपग्रहों के साथ वास्तविक समय संचार लिंक स्थापित करना है। उम्मीद है कि जीसैट-20 से दूरसंचार सेवाओं को बढ़ावा मिलेगा और एनवीएस-02 से नेविगेशन सिस्टम को बढ़ावा मिलेगा।

क्षितिज पर गगनयान:-

इसरो केवल मानवरहित मिशनों पर ही विचार नहीं कर रहा है; गगनयान कार्यक्रम परीक्षण उड़ानों की तैयारी कर रहा है जो अंततः भारतीय अंतरिक्ष यात्रियों को अंतरिक्ष में भेजेगा। यह पहल मानव अंतरिक्ष उड़ान में भारत के प्रवेश को चिह्नित करेगी, जो देश के लिए एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर है। इसके अतिरिक्त, पुन: प्रयोज्य लॉन्च वाहन (आरएलवी) परियोजना लागत प्रभावी अंतरिक्ष पहुंच के लिए प्रौद्योगिकियों का प्रदर्शन करने के लिए तैयार है। यह विवरण विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह ने लोकसभा में सवालों के लिखित जवाब में जारी किया।

मंत्री ने यह भी बताया कि भारत में निजी अंतरिक्ष क्षेत्र भी एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है, और नवंबर 2023 तक, 523 स्टार्टअप और कंपनियां इसरो की वाणिज्यिक शाखा IN-SPACe के साथ जुड़ी हुई हैं, जिनमें से 297 ने अनुसंधान एवं विकास और परीक्षण के लिए समर्थन मांगा है। निजी भागीदारी में यह उछाल सरकार द्वारा अंतरिक्ष क्षेत्र को खोलने, नवाचार और सहयोग के एक नए युग को बढ़ावा देने के निर्णय के बाद आया है।

'जो भारत में वांटेड हैं, उन्हें..', विदेशी धरती पर मारे जा रहे आतंकियों को लेकर केंद्र सरकार ने पहली बार तोड़ी चुप्पी, जानिए क्या कहा

108 कलशों में 600 किलो शुद्ध घी ! 9 सालों तक किया गया एकत्रित, अब बैलगाड़ी से पहुँच रहा अयोध्या

दिल्ली में वसुंधरा राजे, उधर बाबा बालकनाथ ने छोड़ा सांसद पद, राजस्थान की सीएम पोस्ट को लेकर बढ़ा सस्पेंस

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -