Share:
108 कलशों में 600 किलो शुद्ध घी ! 9 सालों तक किया गया एकत्रित, अब बैलगाड़ी से पहुँच रहा अयोध्या
108 कलशों में 600 किलो शुद्ध घी ! 9 सालों तक किया गया एकत्रित, अब बैलगाड़ी से पहुँच रहा अयोध्या

अयोध्या: श्रद्धालु अयोध्या में रामलला के प्राण प्रतिष्ठा समारोह का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं और इस आयोजन के प्रति उनमें उल्लेखनीय उत्साह दिख रहा है। प्राण प्रतिष्ठा के धार्मिक अनुष्ठान के लिए लोग रामलला को विभिन्न प्रकार के प्रसाद चढ़ा रहे हैं, जिसमें राजस्थान के जोधपुर से 600 किलो देसी गायों का शुद्ध घी अयोध्या पहुंच रहा है। यह देसी घी राम मंदिर में अखंड ज्योति और राम लला के अभिषेक के दौरान धार्मिक समारोहों में उपयोग के लिए है।

108 कलशों में 600 किलो देसी घी की खेप 27 नवंबर को जोधपुर से रवाना हुई थी। 5 बैलगाड़ियों पर लादकर जोधपुर के संत महर्षि सांदीपनि जी महाराज आज अयोध्या पहुंचे। संदीपनी जी बताते हैं कि, "27 नवंबर को हम घृत (घी) पद यात्रा पर निकले थे। आज भगवान राम की नगरी अयोध्या पहुंचकर हमने ट्रस्ट के पदाधिकारियों से मुलाकात की और उन्हें घी समर्पित किया।" यात्रा में 108 कलशों में शुद्ध गाय का घी, कुल मिलाकर लगभग 600 किलोग्राम घी ले जाया गया।

यह घी राम मंदिर के अभिषेक और रामलला के गर्भगृह में अखंड जलने वाली अखंड ज्योति में अहम भूमिका निभाएगा। घी संग्रह नौ वर्षों तक चला, उस समय एकत्र किया गया जब भगवान राम के मंदिर का निर्माण अभी भी कई लोगों के लिए एक दूर का सपना था। संदीपनी गो सेवा ट्रस्ट, जोधपुर के अध्यक्ष संदीपनी जी बताते हैं कि, "जोधपुर से आने वाले बैलों वाले रथ गाय के घी से भरा कलश लेकर अयोध्या की परिक्रमा करेंगे। उसके बाद, यह घी श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट को सौंप दिया जाएगा। इसके बाद, गाय के घी से युक्त कलशों को श्री राम मंदिर में अखंड ज्योति जलाने और राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम के दौरान उपयोग के लिए श्री राम जन्मभूमि परिसर में भेजा जाएगा।

श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय राजस्थान से घी लेकर आने वाले रथों के आने की पुष्टि करते हैं। ये रथ श्री राम जन्मभूमि पर घी पहुंचाने से पहले अयोध्या की परिक्रमा करेंगे, जहां इसका उपयोग श्री राम के दीप जलाने और प्राण प्रतिष्ठा समारोह में किया जाएगा। साथ ही कंबोडिया से हल्दी अयोध्या लाई गई है।  

दिल्ली में वसुंधरा राजे, उधर बाबा बालकनाथ ने छोड़ा सांसद पद, राजस्थान की सीएम पोस्ट को लेकर बढ़ा सस्पेंस

दक्षिण भारत में नहीं टला खतरा ! चक्रवात के बाद केरल-तमिलनाडु में भारी बारिश का अलर्ट जारी

PFI नेताओं की संपत्ति जब्त करने में इतनी देर क्यों ? केरल सरकार के सुस्त रवैये पर हाई कोर्ट ने जताई नाराज़गी

 

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -