'बोल देना नशे में था..', जिस चिश्ती ने मांगी नूपुर की गर्दन, उसे क्यों बचा रही राजस्थान पुलिस ?

अजमेर: आम जनता जिस पुलिस से अपनी सुरक्षा की उम्मीद करती है, वही पुलिस जब अपराधियों को बचाने में लग जाए, तो आम लोग फिर किसके पास जाकर गुहार लगाएं। ऐसा ही किस्सा राजस्थान से सामने आया है। दरअसल, राजस्थान पुलिस का एक वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है, जिसके बाद पुलिस पर इस्लामी कट्टरवादियों से मिले होने के संगीन इल्जाम लग रहे हैं। इस वीडियो में राजस्थान पुलिस सलमान चिश्ती को अरेस्ट कर ले जाती नज़र आ रही है। साथ ही ‘आ जाओ’ की आवाजें आ रही हैं। वीडियो में कोई कह रहा है कि, 'हम साथ में ही हैं, चिंता मत कर।' वहीं इसी बीच पुलिस वाले भी ‘चलो-चलो, बेफिकर रह’ भी कहते सुनाई दे रहे हैं। इसके साथ ही पुलिस चिश्ती से पूछती है, 'कौन सा नशा कर रखा था वीडियो बनाते समय?'

 

इसके बाद पुलिसकर्मी खुद ही सलमान चिश्ती को कानून से बचने की सलाह देते हुए कहते हैं कि 'बोल देना, नशे में था।' बता दें कि राजस्थान पुलिस ने अपने बयान में भी यही कहा था कि खादिम भड़काऊ बयान देते समय नशे में था। वो हिस्ट्रीशीटर है और उस पर 13 केस पहले से दर्ज हैं, इस तरह के पेशेवर अपराधी के प्रति राजस्थान पुलिस की सहानुभूति आम जनता की समझ से बाहर है। बता दें कि राजस्थान में सीएम अशोक गहलोत के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार पर पहले भी समुदाय विशेष का तुष्टिकरण करने के आरोप लगते रहे हैं और करौली दंगों के समय भी गहलोत सरकार विवादों में घिरी थी। अब भी अजमेर पुलिस बार-बार जोर दे रही है कि चिश्ती वीडियो बनाते समय नशे में था।

 

बता दें कि धमकी वाले वीडियो में सलमान चिश्ती ने कहा था कि, 'कसम है मुझे पैदा करने वाली मेरी माँ की, मैं उसे (नूपुर शर्मा को) सरेआम गोली मार देता। मुझे मेरे बच्चों की कसम, मैं उसे गोली मार देता और आज भी सीना ठोक कर कह रहा हूँ, जो भी नुपुर शर्मा की गर्दन लाएगा, मैं उसे अपना घर दे दूँगा और रास्ते पर निकल जाऊँगा। ये वादा करता है सलमान।' इसके साथ ही, चिश्ती ने वीडियो में अपने आप को ‘ख्वाजा का सच्चा सिपाही’ बताते हुए मुस्लिमों को भड़काने का प्रयास किया था।

'24 घंटे में मार डालेंगे..', बहिष्कार करने की बात कहने पर भी 'हत्या' की धमकी

नूपुर शर्मा मामले में याचिका को तत्काल सूचीबद्ध करने से सुप्रीम कोर्ट का इंकार

नूपुर शर्मा को कुछ हुआ तो क्या दोनों जज लेंगे जिम्मेदारी ? सुप्रीम कोर्ट में नया हलफनामा दाखिल

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -