जल्द ही आप भी खाएंगे काली रोटी, वजह जानकर हो जाएंगे हैरान

जल्द ही आप भी खाएंगे काली रोटी, वजह जानकर हो जाएंगे हैरान

लोग खाने के लिए और अपना घर चलाने के लिए दिनरात मेहनत करते है तब जाकर उन्हें दो वक्त की रोटी नसीब होती है. हम सभी के घर में ज्यादातर गेहूं की रोटी ही खाई जाती है. आमतौर पर गेहूं का रंग भूरा होता है और इसके आटे का रंग सफ़ेद. लेकिन हाल ही में ऐसा सुनने में आया है कि आने वाले समय में आप सभी गेहूं की सफ़ेद रोटी नहीं बल्कि काले रंग की रोटियां खाएंगे. जी हाँ.... जिसने भी इस बारे में सुना वो हैरान हो गया. हमारे देश को कृषि उत्पादन देश कहा जाता है और बहुत पुराने समय से ही भारत में कई नई-नई तरह की खोज की जाती है. खासकर अगर बात की जाए कृषि में ही तो भारत ने तो इसमें भी कई नए प्रकार की खोज की है.

नेशनल एग्रो फूड बायो टेक्नोलॉजी इंस्टिट्यूट मोहाली ने हाल ही में भारत की कृषि को लेकर एक ऐसा काम किया है जिसकी हर किसी ने तारीफ की है. नेशनल एग्रो फूड बायो टेक्नोलॉजी इंस्टिट्यूट मोहाली ने ब्लैक वीट का पेटेंट करा कर जिसका नाम ‘नाबी’ दिया है. जिसमें भी इसे देखा वो चौंक गया और ऐसा इसलिए क्योकि ये ब्लैक वीट बहुत ज्यादा ही कीमती है और इसकी ये खासियत ही सभी लोगों को हैरानियत में डाल रहीं है. दुनियाभर की सभी कम्पनीज इस ब्लैक वीट को पाना चाहती हैं.

पूरे 7 साल की रिसर्च के बाद काले रंग के गेहूं का ईजाद किया गया है. ये गेहूं आम गेहूं से काफी ज्यादा अलग और पौष्टिक है. ये दिल की बिमारियों में भी रोकथाम करने में मददगार साबित होता है. पहली बार इस गेहूं को पंजाब में उगाया गया था. इस गेहूं की कीमत आम गेहूं से डबल होगी लेकिन अब तक ये गेहूं मार्केट में नहीं आया है.

इस गांव में नहीं है एक भी चाय की दुकान, दूध के लिए भी तरस जाते है लोग

Video : तैरते शख्स पर इस मछली ने प्राइवेट पार्ट पर किया हमला

देश का एकमात्र मंदिर जहाँ इंसान रूपी चेहरे में विराजित हैं श्री गणेश

?