एकात्मवाद के प्रणेता पंडित दीनदयाल उपाध्याय


इस धरा पर जन्म लेने वाले कुछ बिरले ही शख्स ऐसे होते हैं, जो देश और समाज सेवा के लिए न केवल खुद को पूरी तरह समर्पित कर देते हैं, बल्कि एक नई सामाजिक अवधारणा को प्रस्तुत करते हैं. ऐसी ही शख्सियत थी पंडित दीनदयाल उपाध्याय की .उन्होंने एकात्म मानववाद और अंत्योदय जैसी प्रगतिशील विचारधारा प्रस्तुत की थी.
जन्म एवं शिक्षा 
पंडित दीनदयाल जी का जन्म  25 सितम्बर 1916  को यूपी के मथुरा जिले के नगला चन्द्रभान में हुआ था. इनके पिता का नाम  भगवती प्रसाद उपाध्याय था, और माता का रामप्यारी था. लेकिन वे मात्र सात वर्ष की आयु में वे माता -पिता के स्नेह से वंचित हो गए. लेकिन दृढ निश्चयी दीनदयाल ने हिम्मत नहीं हारी और जीवन  से संघर्ष कर  पिलानी, आगरा तथा प्रयाग में शिक्षा प्राप्त  कर बी०.एससी० बी०टी० की शिक्षा प्राप्त की. 
संघ को  समर्पित जीवन 
पंडित दीनदयाल उपाध्याय छात्र जीवन से ही राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सक्रिय कार्यकर्ता थे. उन्होंने अपना पूरा जीवन संगठन के प्रति समर्पित कर दिया. राजनीति के अलावा साहित्य में भी उनकी गहरी अभिरुचि थी. वे  एक भारतीय विचारक, अर्थशास्त्री , समाजशास्त्री , इतिहासकार और पत्रकार भी थे. 
जनसंघ अध्यक्ष 
डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी  ने 1951 में  दीनदयाल उपाध्याय को प्रथम महासचिव नियुक्त किया. था . वे लगातार  दिसंबर 1967 तक इस पद पर रहे. उन्हें 19 दिसंबर 1967 को  भारतीय जनसंघ का अध्यक्ष चुना गया. उनके गुणों से डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी बहुत प्रभावित थे. वे गर्व से कहते थे कि 'यदि मेरे पास दो दीनदयाल हों, तो मैं भारत का राजनीतिक चेहरा बदल सकता हूं’.
एकात्म मानववाद 
दीनदयाल द्वारा स्थापित ‘एकात्म मानववाद’ की अवधारणा पर आधारित राजनीतिक दर्शन भारतीय जनसंघ (वर्तमान भारतीय जनता पार्टी) की देन है. उनके अनुसार ‘एकात्म मानववाद’ प्रत्येक मनुष्य के शरीर, मन, बुद्धि और आत्मा का एक एकीकृत कार्यक्रम है. उनका मानना था कि भारत पश्चिमी अवधारणाओं पर निर्भर नहीं हो सकता.

 निधन 

लेकिन यह अफ़सोस की बात है कि ऐसी नूतन विचारधारा वाले दीनदयालजी का देश को ज्यादा सान्निध्य नहीं मिल पाया. 11 फरवरी1968 की रात में रेलयात्रा के दौरान मुगलसराय स्टेशन के आसपास उनकी हत्या कर दी गई. और  राजनीतिक क्षितिज का  यह उभरता सूर्य जल्द ही अस्त हो गया.

यह भी देखें 

 

बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक आज से शुरू

 

जब बीजेपी विधायक ने घायल को पीठ पर लादा

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -