कुरान के अपमान का आरोप, मुस्लिम भीड़ ने जला डाली 4 पुलिस चौकी और 30 कारें

इस्लामाबाद: पाकिस्तान के चारसड्डा जिले में रविवार (28 नवंबर 2021) रात को लगभग 5000 मुस्लिमों की भीड़ ने एक पुलिस थाने और चार चौकियों में  आग लगा दी। साथ ही 30 से अधिक कारों को भी आग के हवाले कर दिया। अधिकारियों ने बताया कि मानसिक रूप से विक्षिप्त एक शख्स पर कुरान का अपमान करने का इल्जाम है। आक्रोशित भीड़ पुलिस से ईशनिंदा के आरोपित को सौंपने की माँग कर रही थी, जब उन्होंने उसे नहीं सौंपा तो उन्होंने पुलिस थाने और चौकियों को आग के हवाले कर दिया। सोशल मीडिया पर एक पाकिस्तानी पत्रकार ने इस घटना का वीडियो पोस्ट किया है। वीडियो में पुलिस थाना जलता हुआ नज़र आ रहा है।

 

स्थानीय अधिकारी आसिफ खान ने बताया कि हमले में किसी अधिकारी की मौत नहीं हुई है। हमले की वजह से पुलिस को खैबर पख्तूनख्वा प्रांत के एक जिले चारसड्डा में व्यवस्था बहाल करने के लिए सैनिकों को बुलाना पड़ा। उन्होंने कहा कि अधिकारियों ने भीड़ द्वारा बंदी को पीटने का का प्रयास नाकाम कर दिया। पुलिस उसे दूसरे जिले में ले गई है। खान ने आगे बताया कि संदिग्ध को एक दिन पहले ही पकड़ा गया था। उन्होंने उस व्यक्ति का नाम भी सार्वजनिक नहीं किया है, क्योंकि अधिकारी अभी इस मामले की छानबीन कर रहे हैं। अधिकारियों ने शुरू में इनका विरोध किया, किन्तु पुलिस थाने पर हजारों प्रदर्शनकारियों के हमला करने के बाद वे वहाँ से भाग निकले। अधिकारी ने बताया कि चारसड्डा में सोमवार (29 नवंबर 2021) को स्थिति सामान्य रही।

बता दें कि गत माह पाकिस्तान के चारसड्डा जिले से मलंग जान नाम के विकलांग शख्स को मामूली विवाद के बाद मुस्लिम भीड़ द्वारा जलाकर मार देने की घटना प्रकाश में आई थी। व्हीलचेयर वाले व्यक्ति (मलंग) को जिंदा जलाने के आरोप में पुलिस ने लगभग 13-14 लोगों को अरेस्ट किया था। रिपोर्ट में बताया गया था कि मलंग जान को कट्टरपंथियों की भीड़ ने इसलिए जीवित जला दिया था, क्योंकि उस पर बकरी की कथित चोरी को लेकर एक लड़के का क़त्ल करने का संदेह था।

पाक के पंजाब में खुफिया कार्रवाई में छह आतंकवादी हिरासत में

मून ने दक्षिण अफ्रीका में कोविड -19 के खिलाफ बूस्टर शॉट्स देने का आग्रह किया

कंबोडियन पुलिस ने 25 किलो से अधिक ड्रग्स जब्त की, 3 लोग गिरफ्तार

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -