शिव सेना ने पाक उच्चायोग को जासूसी का अड्डा बताया

मुम्बई : पाकिस्तान उच्चायोग के अधिकारियों के जासूसी में लिप्त होने की जानकारी मिलने के बाद अब शिव सेना ने अपने मुखपत्र सामना के संपादकीय में पाक उच्चायोग को जासूसी का अड्डा बताते हुए उच्चायोग को दिल्ली से हटाने की मांग की. बता दें कि सामना के संपादकीय में लिखा है कि पाकिस्तान की टेढ़ी पूंछ सीधी होने का नाम नहीं ले रही है. इसका उदाहरण एक बार फिर देखने को मिला. हिंदुस्तान की राजधानी में बैठकर पाकिस्तानी खुफिया संगठन आईएसआई जासूसी का एक बहुत बड़ा रैकेट चला रही थी.

रैकेट के सूत्रधार खुद अख्तर ने कबूलनामा किया कि जासूसी में मेरे साथ 16 अधिकारी शामिल थे. शिवसेना ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय कानून के चलते पाकिस्तानी अधिकारियों को हिंदुस्तान को मुक्त करना पड़ा, लेकिन जो हिंदुस्तानी साजिश में शामिल थे, उन आस्तीन के सांपों को अब कड़ी से कड़ी सजा होनी चाहिए.

शिवसेना ने खुलेआम पाकिस्तानी उच्चायोग को जासूसी का अड्डा बताते हुए इसे भारत से हटाने की मांग की है. संपादकीय में लिखा, 'पाकिस्तान के दो-चार अधिकारियों हटाने से कुछ हासिल नहीं होने वाला. पाकिस्तान के 16 अधिकारी यदि साजिश में शामिल हैं, तो आईएसआई के इस पूरे अड्डे को हिंदुस्तान से हटाने की मांग की है.

सिमी आतंकियों के एनकाउंटर विवाद में शिवसेना ने तोड़ी चुप्पी

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -