सरकार और सेना के बीच मतभेद पर पाकिस्तान आर्मी ने तोड़ी चुप्पी

इस्लामाबाद : पाकिस्तान को लेकर अफवाहें सामने आने के बाद पाकिस्तान की सेना के शीर्ष कमांडर्स ने अपनी प्रतिक्रिया दी है। इस दौरान सेना ने कहा है कि इस तरह की बातें होने से राष्ट्रीय सुरक्षा पर खतरा मंडराने लगा है। सेना द्वारा कहा गया है कि जिस अखबार में यह बातें सामने आई हैं वह गलत है। गौरतलब है कि वहां के एक समाचार पत्र ने अपने प्रकाशन में यह बात शामिल की थी कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने साफतोर पर सेना से कहा था कि या तो वे आतंकवाद का सफाया करें या फिर पाकिस्तान को विश्व स्तर पर अलग-थलग हो जाने के लिए तैयार रहें।

पाकिस्तान के समाचार पत्र में इस तरह की भ्रांति का प्रकाशन होने के बाद हलचल मच गई है। वहां पर सेना ने अपनी बैठक बुलाई। इस बैठक में सेना के शीर्ष अधिकारी मौजूद थे। बैठक के बाद जो बयान जारी किया गया है। उसमें कमांडर्स को लेकर चिंता जताई गई है। बैठक में भारत के 29 सितंबर को किए जाने वाले सर्जिकल स्ट्राईक को गलत ठहरा दिया गया है।

पाकिस्तान ने कहा है कि भारत की ओर से कोई सर्जिकल स्ट्राईक नहीं की गई है। हालांकि जिस समाचार पत्र ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को लेकर चर्चा की है उसने अपने दावे को सही ठहराया है जबकि सेना ने इस बात को नकार दिया है। दोनों अपने-अपने दावे कर रहे हैं लेकिन इससे अलग पाकिस्तान मुश्किल में है।

उसके नागरिक यहां वहां पलायन कर रहे हैं और बलूचिस्तान में मानव अधिकारों के उल्लंघन का मामला भी जोरों पर उठ रहा है। दूसरी ओर आतंकी संगठन अभी भी पाकिस्तान में डेरा डाले हैं ऐसे में पाकिस्तान विश्व के लिए आतंक की एक नई धरती बनता जा रहा है।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -