प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिला नेताजी का परिवार

नई दिल्ली: नेताजी सुभाषचंद्र बोस के परिवार के सदस्य प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलने पहुंचे। इस दौरान यह बात भी सामने आई कि 51 लोगों के इस समूह में नेताजी के परिवार से जुड़े 36 लोग एक प्रतिनिधिमंडल के तौर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिले। समूह द्वारा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से इस बात की मांग की जा रही है, लेकिन मुलाकात में नेताजी के परिवार की मांग मंजूर हुई है या नहीं अभी इसकी सही जानकारी नहीं मिल पाई है। लगभग 130 फाईलें केंद्र सरकार और प्रधानमंत्री कार्यालय के पास करीब 70 वर्ष से मौजूद हैं ।

जिनमें से पश्चिम बंगाल की सरकार द्वारा फाईलें सार्वजनिक की गई हैं वहीं केंद्र सरकार से उनका परिवार इन फाईलों को सार्वजनिक करने की मांग कर रहा है। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से वादा करने की बात कही और कहा कि देश के साथ विदेश में नेताजी से जुड़ी फाईलें थीं जो केंद्र और राज्य सरकार के पास मौजूद थीं। नेताजी के परपोते चंद्र बोस ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को धन्यवाद देते हुए कहा कि केंद्र सरकार ने इस मामले में सराहनीय कार्य किया है।

उल्लेखनीय है कि इस प्रतिनिधि मंडल में 36 लोग नेताजी के परिवार से हैं दूसरी ओर 51 लोगों में अन्य 15 लोग स्काॅलर्स और विशेषज्ञ हैं। नेताजी के परिवार से शीला सेन गुप्ता, परपोते अभिजीत राॅय, भतीजे अद्र्धेंदु बोस और भतीजी चित्रा घोष प्रधानमंत्री से मिलेंगे। इन पारिवारिक सदस्यों में शीला सेन गुप्ता सबसे बुजुर्ग महिला हैं।

चंद्र बोस ने कहा कि नेताजी से जुड़ी फाईलों को सरकारों द्वारा सार्वजनिक नहीं किया जा सका। इस मामले में यह बात भी सामने आ रही है कि यदि इन फाईलों को सार्वजनिक किया जाता है तो भारत के कुछ देशों के साथ संबंध खराब हो सकते हैं। चंद्र ने कहा कि 1945 में नेताजी चीन में थे। मगर इस बात की जांच नहीं की गई। 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -