घरेलू नुस्खो से बीपी पर लगाएं लगाम

घरेलू नुस्खो से बीपी पर लगाएं लगाम

आज के यूग मे तेज रफ्तार से जिंदगी भाग रही है जिसके चलते हमारी रगों में खून की रफ्तार भी जरूरत से ज्यादा बढ़ गई है। खून की तेज रफ्तार हमारी सेहत के लिए बिल्कुल भी अच्‍छी नहीं होता है। इसे हाइपरटेंशन कहा जाता है मीन्स हाई बीपी। उच्‍च रक्‍तचाप को नियंत्रित करने के लिए हम दवाओ का सेवन करते है, लेकिन इसके साथ ही अगर हम कुदरती उपाय करे तो ये हमारे शरीर के लिए बेहतर होगा, जिनके जरिये बीपी को कंट्रोल किया जा सकता है। आइए जाने घरेलू उपाए जिससे हम बीपी को नियंत्रण मे रख सकते है। 

वॉक करें

रोजाना वॉक करना चाहिए क्योंकि इससे आप फिट रहेगे साथ ही साथ इससे आप रक्‍तचाप को नियंत्रित करने में मदद भी मिलती है। व्‍यायाम करने से हमारे दिल की कार्यक्षमता बढ़ती है और इससे आप ऑक्‍सीन का बेहतर इस्‍तेमाल कर पाता है लेकिन कड़ा व्‍यायाम करने की जरूरत नहीं हैं। सप्‍ताह में 4-5 दिन तक 30 मिनट एक्‍सरसाइज करना चाहिए इससे आपको काफी फायदा मिलेगा। 

प्राणायाम करें 

प्राणायाम और योगा करे इससे तनाव कम होता हैं। इससे रक्‍तचाप को कम करने में भी मदद मिलती है। सुबह शाम 5-6 मिनट तक प्राणायाम और योगा करना चाहिए ये काफी फायदेमंद है। गहरी सांस लें और पेट को पूरी तरह फुला लें और सांसे छोड़ते ही आपकी सारी चिंता बाहर निकल जाएगी।

आलू खाएं

आहार में पोटेशियम युक्‍त फलों और सब्जियों खाएं। रोजाना 2 हजार से 4 हजार मिलीग्राम पोटेशियम का सेवन करने से बीपी की समस्या से छुटकारा पा सकते हैं। आहार मे तरबूज,सूखे मेवे, किशमिश, नाशपति, राजमा, आलू, केला, शकरकंदी, संतरें का रस और टमाटर लें।   

नमक करें कम

खाने मे नमक का अधिक सेवन न करें क्योंकि इससे उच्‍च रक्‍तचाप का खतरा बढ़ जाता है। इसलिए भोजन में नमक की मात्रा कम लेना चाहिए। डॉक्‍टरों के मुताबिक नमक में मौजूद सोडियम की अधिक मात्रा हमारे शरीर के लिए अच्‍छी नहीं होती।

चॉकलेट खाएं

डार्क चॉकलेट खाना चाहिए क्योंकि इसमे फ्लेनोल्‍ड होते हैं, जो रक्‍तवा‍हिनियों को अधिक लचीला बनात हैं। एक शोध के अनुसार डार्क चॉकलेट खाने से 18 फीसदी लोगों मे रक्‍तचाप मे कमी होते देखा गया है। 

चाय पियें

गुलहड़ की चाय पिए क्योंकि इससे उच्‍च रक्‍तचाप की समस्‍या से बचा जा सकता है। डेढ़-दो महीने तक गुलहड़ की चाय पिए इससे रक्‍तचाप को सात प्‍वाइंट तक नीचे लाने में मदद मिलती है। कई शोध ने इस बात की पुष्टि कर चुके हैं। चाय पीने से रक्‍तचाप को नियंत्रित करने में काफी फायदा मिला है।