खिसियाये नरेश मीडिया नोंचे

खिसियाये नरेश मीडिया नोंचे

दिल्ली : समाजवादी पार्टी का दामन छोड़ भारतीय जनता पार्टी का दामन थामने वाले नरेश अग्रवाल का विवादों से पुराना नाता रहा है. हाल ही में उन्होंने के बीजेपी ज्वाइन करने के साथ ही विवादित बयान दिया. दरअसल, सोमवार शाम को बीजेपी में शामिल हुए नरेश अग्रवाल ने जया बच्चन पर पर टिप्पणी करते हुए कहा कि डांस करने वालों की वजह से सपा में मेरा राज्यसभा का टिकट काटा गया. उनके इस बयान से पार्टी के लिए कुछ देर के लिए असहज स्थिति हो गई. वही बीजेपी की महिला नेताओं विदेश मंत्री और बीजेपी की वरिष्ठ नेता सुषमा स्वराज, स्मृति ईरानी और रूपा गांगुली ने भी नरेश अग्रवाल के बयान पर विरोध दर्ज कराया है.

हालांकि आज सुबह नरेश ने खेद जताया है, नरेश ने कहा कि वे किसी विवाद में नहीं पड़ना चाहते. उसने जब ये पूछा गया कि क्या आप अपने किये पर शर्मिंदा है और माफ़ी मांग रहे है, तो वे इस सवाल पर कन्नी काट गए. उल्टा उन्होंने ये कहा दिया की उनके बयान को मिडिया ने गलत तरीके से पेश किया है. नरेश अग्रवाल राजनीती ने जिसकी सत्ता रही है उसी के साथी हो जाते है. नरेश अग्रवाल अब तक जनता पार्टी, जनता दल, बसपा, बीजेपी और कांग्रेस में भी रह चुके है.

तो आईये उनके कुछ विवादित बयान जिनके कारण वे सदा से सुर्खियों में रहे, आपको एक साथ इस रिपोर्ट में दिखाते है. -

 व्हिस्की में विष्णु बसे, रम में बसे है  राम, जिन में बसी है जानकी , ठर्रे में हनुमान बोलो जय सिया राम ..........यह वो लाइन थी जो नरेश अग्रवाल ने जुलाई 2017 में राज्य सभा में कही थी. जिसके बाद सदन में बीजेपी के नेताओ के द्वारा भी खास हंगामा हुआ था और इस बयान की कड़ी निंदा की गई थी... लेकिन आज वही नरेश अग्रवाल जिसने उस दौरान बीजेपी के नीतियों पर सवाल उठाए थे और हिन्दू देवी देवताओं पर टिप्पणी की थी वो आज बीजेपी में शामिल हुए है 

नरेश अग्रवाल लखनऊ में रविवार को अखिल भारतीय वैश्य महासम्मेलन में हिस्सा ले रहे थे. महासम्मेल के दौरान दिए अपने भाषण में उन्होंने प्रधानमंत्री के खिलाफ उनके जाति को लेकर हमला किया. उन्होंने कहा ''अगर हम बोलना शुरू करेंगे तो अमित शाह और मोदी सब पर बोलेंगे. उनसे कह दो कि समाज के पक्ष में कानून बना दें''. इस पर किसी ने पूछा कि मोदी, शाह तो अपनी जाति वैश्य के हैं, इस पर नरेश ने कहा ''शाह हमारी जाति के हैं, लेकिन मोदी हमारी जाति के नही हैं''. इसी दौरान उन्होंने प्रधानमंत्री की जाति का जिक्र किया.

राममंदिर पर बोलते हुए खुद को भगवान राम का पुजारी कहते हुए सांसद नरेश अग्रवाल ने कहा था कि उनके नेता मुलायम सिंह यादव भी यदुवंशी हैं और कृष्ण के पुजारी हैं.

इसे पहले एक बार सपा से निकाले जाने पर नरेश अग्रवाल ने कहा था कि जब अध्यक्ष अखिलेश हो गए हैं तो नेता जी को हमें निकालने का अधिकार नहीं बचा है. नेता जी के दिमाग को लोग प्रभावित कर रहे हैं. नेता जी अपने आप कुछ नहीं कर रहे हैं. नेता जी के आसपास कुछ असुर बैठ गए हैं जो उनसे करवा रहे हैं.

विवादास्पद बयानों के लिए चर्चित नरेश अग्रवाल

स्मृति, रूपा, जया और सुषमा को नरेश अग्रवाल से एतराज