BRICS: आतंकवाद की जन्मभूमि हमारे पड़ोस में, उसे सज़ा दिए जाने की जरुरत

पणजी : ब्रिक्स सम्मेलन के दूसरे दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पाकिस्तान का नाम लिए बगैर उस पर हमला बोला. ब्रिक्स देशों के राष्ट्राध्यक्षों से चर्चा करते हुए कहा, 'हमारी समृद्धि के लिए आतंकवाद सबसे गंभीर खतरा है. विडंबना यह है कि भारत के पड़ोस में आतंकवाद की जन्मभूमि है. PM मोदी ने कहा, 'यह देश से दुनिया भर के टेरर माड्यूल्स से संचालित होते हैं।.यह देश न सिर्फ आतंकियों को पनाह देता है बल्कि आतंकी मानसिकता भी पालता है.' इससे आगे PM मोदी ने अपने ढ्बोशन में कहा कि, 'हम अपनी इस विश्वास पर कायम हैं कि आतंकवाद और उसके समर्थकों को इनाम नहीं बल्कि सज़ा दिए जाने की जरुरत है.'

बता दें कि इसके पूर्व प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को श्रीलंका के राष्ट्रपति और भूटान के प्रधानमंत्री से भेंट की. पीएम मोदी पहले श्रीलंका के राष्ट्रपति मैत्रीपाल सिरीसेना और उसके बाद भूटान के पीएम शेरिंग तोबगे से भी मिले. इन नेताओं के बीच कई अहम मुद्दों पर बात चीत होने जानकारी मिली है.

उल्लेखनीय बात यह है कि श्रीलंका और भूटान ब्रिक्स के सदस्य नहीं है फिर भी इन देशों के राष्ट्राध्यक्ष ब्रिक्स-बिमटेक आउटरीच सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए गोवा आए हैं. तोबगे और सिरीसेना के अलावा नेपाल के प्रधानमंत्री पुष्प कमल दहल प्रचंड और बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना भी गोवा पहुंच गई.

मोदी बोले - वैश्विक एजेंडा को आकार दे ब्रिक्स

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -