ओमीक्रॉन को लेकर सतर्क MP! हाईरिस्क देशों से आए 174 की नहीं हुई जांच

भोपाल: मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के पड़ोसी राज्यों में Corona के नए वेरिएंट Omicron के संक्रमित मिले हैं। ऐसा होने के बाद प्रदेश में संक्रमण का खतरा अब बढ़ चुका है। वहीं, दूसरी तरफ बीते सोमवार को सीएम शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj Singh Chouhan) ने कोरोना की स्थिति को लेकर समीक्षा बैठक की। कहा जा रहा है इस बैठक के दौरान स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने विदेश से आए लोगों की जानकारी के बारे में बताया है।

अधिकारियों का कहना है कि प्रदेश में विदेश से आने वाले यात्रियों की टेस्टिंग तो दूर ट्रैकिंग तक नहीं हो पा रही है। जी दरअसल, स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने कहा कि बीते 24 नवंबर से 6 दिसंबर सुबह 8 बजे तक विदेश से प्रदेश में 1668 यात्री आए, जिनमें से अभी तक 785 यात्री ही ट्रैस हो पाए हैं। हालांकि 883 यात्री अभी लापता चल रहे हैं। इस दौरान सबसे गंभीर बात यह है कि हाई रिस्क देशों से प्रदेश में 697 यात्री आए, जिसमें से 523 की ही RTPCR जांच के लिए सैंपल लिए गए। यानी कि 174 लोगों की RTPCR जांच तक भी नहीं हुई। कहा जा रहा है लोगों के ट्रैस नहीं होने का कारण एड्रेस और मोबाइल नंबर गलत होना है।

इसी के साथ कई लोगों के मोबाइल फोन भी बंद आ रहे हैं। इसके अलावा कुछ लोग अपने पते से दूसरे शहर निकल गए हैं। आपको हम यह भी बता दें कि स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों का कहना है कि प्रदेश में नवंबर से पहले जीनोम सीक्वेंसिंग की 2192 रिपोर्ट मिली थी, जिनमें से 819 में वैरिएंट ऑफ कंसर्न मिला है। इसी के साथ 726 में डेल्टा (ट्रीपल म्यूटेशन), 79 में यूके स्ट्रेन (अल्फा) और 14 में डेल्टा प्लस म्यूटेशन मिला है। स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट को माने तो यह रिपोर्ट पुराने सैंपल की है। इस लिस्ट में भोपाल और इंदौर से 1 नवंबर के बाद भेजे गए 218 सैंपल की अभी तक रिपोर्ट ही नहीं है।

प्रैक्टिकल के बहाने 17 लड़कियों के साथ हुआ घिनोना काम, इंटरनेशनल स्कूल के संचालक पर मुकदमा दर्ज

सलमान नहीं होंगे विक्की-कैटरीना की शादी में शामिल, खास है वजह

दुनियाभर के 40 से अधिक देशों में फैला Omicron, बढ़ रही आमजन की परेशानी

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -