मोदी का वादा, दलितों के साथ अन्याय नहीं होगा

मोदी का वादा, दलितों के साथ अन्याय नहीं होगा

दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को राजधानी दिल्ली में 100 करोड़ की लागत से बने आंबेडकर मेमोरियल का उद्घाटन किया. इस मौके पर उन्होंने कहा कि उनकी सरकार ने दलितों के संरक्षण के लिए एससी/एसटी कानून को सख्त बनाया है. उन्होंने कहा कि उनकी सरकार दलितों के साथ अन्याय नहीं होने देगी. कांग्रेस पर निशाना साधते हुए मोदी ने कहा, 'कांग्रेस सिर्फ भ्रम फैला सकती है, इस कोशिश की एक तस्वीर इस महीने की 2 तारीख को हम देख चुके हैं. कभी आरक्षण खत्म किए जाने की अफवाह फैलाना, कभी दलितों के अत्याचार से जुड़े कानून को खत्म किए जाने की अफवाह फैलाना, यही कांग्रेस का काम रह गया है.' उन्होंने कहा कि भाई से भाई को लड़ाने में कांग्रेस कोई कोर-कसर नहीं छोड़ रही.

मोदी ने कहा कि जब माननीय सुप्रीम कोर्ट ने 20 मार्च को इस अधिनियम से जुड़ा फैसला दिया, तो सिर्फ 12 दिन में पुनर्विचार याचिका भी दाखिल की गई. उन्होंने कहा, 'मैं आज इस अवसर पर देश को आश्वस्त करना चाहता हूं कि जिस कानून को हमारी सरकार ने ही सख्त किया है, उस पर प्रभाव नहीं पड़ने दिया जाएगा.' दिल्ली के अलीपुर में डॉक्टर आंबेडकर राष्ट्रीय स्मारक के उद्घाटन समारोह को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा, 'कांग्रेस कभी नहीं चाहती थी और न आज चाहती है कि दलित और पिछड़े विकास की मुख्यधारा में आएं जबकि हमारी सरकार, बाबा साहेब के दिखाए रास्ते पर चलते हुए, सबका साथ-सबका विकास के मंत्र के साथ समाज के हर वर्ग तक विकास का लाभ पहुंचाने का प्रयास कर रही है.'


मोदी ने कहा कि इस सरकार में कानून के माध्यम से सामाजिक संतुलन को स्थापित करने का भी निरंतर प्रयास किया गया है. उन्होंने कहा, 'हमारी ही सरकार ने 2015 में दलितों पर होने वाले अत्याचार को रोकने के लिए कानून को और सख्त किया. दलितों पर होने वाले अत्याचारों की लिस्ट को 22 अलग-अलग अपराधों से बढ़ाकर 47 कर दिया.' आज यानी शनिवार को मोदी छत्तीगढ़ में आम्बेडकर जयंती के अवसर पर 'आयुष्मान भारत' के तहत देश के पहले हेल्थ वेलनेस सेंटर का उद्घाटन भी करेंगे. 

 

डॉ. आंबेडकर की कुछ उपलब्धियाँ

क्यों त्यागा बाबा साहेब ने हिन्दू धर्म ?

बालक सकपाल कैसे बना ' डॉ आंबेडकर'