Share:
'ऐ बहादुर मुजाहिदीनों की धरती..', इजराइल के खिलाफ पाकिस्तान से मदद मांगने पहुंचा हमास, भूल गया 'Black September'
'ऐ बहादुर मुजाहिदीनों की धरती..', इजराइल के खिलाफ पाकिस्तान से मदद मांगने पहुंचा हमास, भूल गया 'Black September'

यरूशलम: फिलिस्तीनी आतंकी संगठन हमास के राजनीतिक प्रमुख इस्माइल हानियेह ने कथित तौर पर इज़राइल के साथ चल रहे युद्ध में पाकिस्तान से मदद मांगी है। पाकिस्तान के जियो न्यूज ने बुधवार को इस बारे में जानकारी देते हुए बताया है कि पाकिस्तान को "बहादुर" बताते हुए उन्होंने (हमास नेता) कहा कि अगर पाकिस्तान इजरायल का प्रतिरोध करता है, तो क्रूरता का अपराध बंद हो सकता है।''

हनियेह ने यह टिप्पणी पाकिस्तान के इस्लामाबाद में आयोजित 'अल-अक्सा मस्जिद की पवित्रता और मुस्लिम उम्माह की जिम्मेदारी' विषय पर राष्ट्रीय संवाद में अपने संबोधन के दौरान की। हमास के लिए पाकिस्तान के समर्थन की आशा व्यक्त करते हुए, हनियेह ने देश को "मुजाहिदीन (इस्लाम के लिए लड़ने वाले लोग) की भूमि" कहा। जियो न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, चल रहे इजरायल-हमास युद्ध में फिलिस्तीनियों द्वारा किए गए बलिदान को रेखांकित करते हुए, हनियेह ने कहा कि पाकिस्तान की ताकत संभावित रूप से संघर्ष को रोक सकती है।

हमास के शीर्ष नेता ने पवित्र कुरान का बारीकी से पालन करने वाले देशों के बीच गाजा पट्टी में इजरायल के हमले का विरोध करने के महत्व पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि लगभग 16,000 फिलिस्तीनियों की गिरफ्तारी और पवित्र स्थलों को अपवित्र करने सहित इजरायल की कार्रवाई अंतरराष्ट्रीय शर्तों का उल्लंघन थी। इस्माइल हानियेह ने भी फिलिस्तीनी क्षेत्रों पर इजरायल के कब्जे में वृद्धि का हवाला देते हुए ओस्लो समझौते के कार्यान्वयन न होने पर निराशा व्यक्त की। हमास के शीर्ष नेता ने इस्लामिक देशों और इज़राइल के बीच राजनयिक संबंधों के खिलाफ चेतावनी देते हुए कहा कि यह फिलिस्तीनी उद्देश्य को गंभीर रूप से बर्बाद कर देगा।

मजलिस इत्तेहाद-ए-उम्माह पाकिस्तान द्वारा आयोजित कार्यक्रम में अपने संबोधन में, हनियेह ने अमेरिका और अन्य देशों पर इज़राइल का समर्थन करने का आरोप लगाया और यहूदी राष्ट्र को पीछे हटते देखने की अपनी इच्छा के बारे में बात की। इसके अलावा, उन्होंने दावा किया कि इज़राइल ने "स्थायी विनाश" के इरादे से गाजा पर अचानक हमले की योजना बनाई थी। जियो न्यूज की रिपोर्ट के मुताबिक, उन्होंने हमास के 7 अक्टूबर के हमले को भी सही ठहराया और इसे आत्मरक्षा बताया और कहा कि इसने इजरायल की कब्जे की योजना को रोक दिया।

मुसलमानों के सबसे बड़े दुश्मन यहूदी:-

अपने भाषण के दौरान, इस्माइल हानियेह ने कहा कि फिलिस्तीनियों को पाकिस्तान से "उच्च उम्मीदें" हैं और देश की ताकत पर विश्वास व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि हमास इजरायल के सबसे उन्नत हथियारों का मुकाबला कर रहा है, और इजरायल के इरादों को पटरी से उतारने में फिलिस्तीनी आतंकवादी समूह की सफलता के बारे में दृढ़ संकल्प दिखाया। जियो न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, उन्होंने अपने भाषण में यहूदियों को दुनिया भर के सभी मुसलमानों का "सबसे बड़ा दुश्मन" भी कहा।

कौन है इस्माइल हानियह:-

बता दें कि, युद्ध शुरू होने के बाद से ही हनियेह हमास का सख्त बात करने वाला चेहरा रहा है। 1962 में गाजा के अल-शती शरणार्थी शिविर में जन्मे उनके माता-पिता 1948 के अरब-इजरायल युद्ध के दौरान अपना घर छोड़कर भाग गए थे। हमास नेता अब कतर में स्थित हैं। अपने कॉलेज के दिनों से ही हमास से जुड़े हनिएह को 1997 में आतंकवादी समूह का प्रमुख नियुक्त किया गया था। तब से, वह रैंकों में आगे बढ़े और उस समूह के प्रमुख भी थे, जिसने 2006 में फिलिस्तीनी विधायी चुनाव जीता और प्रधान मंत्री बने। फिलिस्तीनी प्राधिकरण (PA) के अध्यक्ष महमूद अब्बास ने जून 2007 में फतह-हमास संघर्ष के चरम पर इस्माइल हनीयेह को बर्खास्त कर दिया था, लेकिन हमास नेता ने आदेश को स्वीकार नहीं किया और गाजा में प्रधान मंत्री पद का प्रयोग जारी रखा और दो विवादित प्रधानमंत्रियों में से एक बन गए। 7 अक्टूबर के क्रूर हमले के बाद, ऑनलाइन सामने आए फुटेज में हनीयेह को हमास के अन्य अधिकारियों के साथ नरसंहार का जश्न मनाते और मनाते हुए देखा गया था।

इजराइल-हमास युद्ध:-

हमास नेता की यह टिप्पणी तब आई है जब गुरुवार को इजराइल-हमास युद्ध को दो महीने हो गए हैं। हमास के 7 अक्टूबर के हमले के जवाब में इज़राइल ने गाजा में चौतरफा हमला शुरू कर दिया है, जिसमें 1,000 से अधिक इज़राइलियों की जान चली गई थी। आतंकवादी समूह 200 से अधिक बंधकों को भी अपने साथ गाजा पट्टी ले गया, जिनमें से 80 से ज्यादा - विदेशी नागरिकों सहित - को हाल ही में इज़राइल के साथ सात दिवसीय संघर्ष विराम के दौरान रिहा कर दिया गया था।

गाजा में इजरायल की लगातार बमबारी में 16,000 से अधिक फिलिस्तीनी मारे गए और हजारों लोग विस्थापित हुए। संयुक्त राष्ट्र (UN) ने लगातार घिरे हुए इलाके में युद्धविराम का आह्वान किया है, इसके महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने सुरक्षा परिषद के अध्यक्ष को लिखे एक पत्र में उल्लेख किया है कि गाजा में सार्वजनिक व्यवस्था "निराशाजनक परिस्थितियों के कारण जल्द ही पूरी तरह से टूट जाएगी"। इसके अलावा, कई वैश्विक नेताओं ने इजरायल के अपनी रक्षा के अधिकार के समर्थन के बावजूद गाजा युद्धविराम का आह्वान किया है। हालाँकि, इज़रायली प्रधान मंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने बार-बार युद्धविराम वार्ता को यह कहते हुए अस्वीकार कर दिया है कि इसका मतलब हमास के सामने झुकना होगा। उन्होंने आतंकवादी समूह को खत्म करने की भी कसम खाई है और दुनिया भर में हमास नेताओं को मार गिराने का आदेश दिया है।

क्या पाकिस्तान कर पाएगा हमास की मदद :-

हमास ने पाकिस्तान से मदद तो मांगी है, लेकिन पाकिस्तान अभी कंगाली, राजनितिक अस्थिरता और आतंकी हमलों से जूझ रहा है, ऐसे में इस बात की संभावना बेहद कम है कि, वो हमास की कोई भी मदद कर पाएगा। हालाँकि, हमास भी ये भूल चुका है कि ये पाकिस्तान ही था, जिसके चलते 1970 में हज़ारों फिलिस्तीनियों को मार डाला गया था, वो नरसंहार आज भी 'Black September' के नाम से जाना जाता है। दरअसल, 1948 में जॉर्डन ने इजराइल पर हमला कर उससे वेस्ट बैंक का हिस्सा छीना, और फिलिस्तीनियों को अपनी नागरिकता दे दी। 1967 में इजराइल ने पलटवार किया और एकसाथ 6 मुस्लिम देशों को 6 दिनों में ही हराकर अपना 'वेस्ट बैंक' वापस ले लिया। वहां जो फिलिस्तीनी रह रहे थे, वो भागकर जॉर्डन के भीतरी इलाकों में घुस गए। वहां से ये फिलिस्तीनी, जॉर्डन के शाह को ही हटाने की साजिश रचने लगे, उसी शाह को जिसने उन्हें शरण दी थी, यहाँ तक कि फिलिस्तीनियों को प्रतिनिधित्व मिले, इसलिए अपनी असेंबली सीट भी दे दी थी। 

'फिलिस्तीन मुक्ति संगठन' (PLO) के लोग जॉर्डन को ही फिलिस्तीन बनाने की साजिश रचने लगे, उन्होंने 2 बार जॉर्डन के शाह को भी मारने की कोशिश की। इस संगठन का नेता यासिर अराफात था। 1970 में 1 सितंबर को PLO ने 3 प्लेन हाईजैक कर लिए और उसके यात्रियों को पूरी मीडिया के सामने ब्लास्ट में मार डाला। अब जॉर्डन के शाह की कुर्सी खतरे में आ गई, तो उन्होंने फिलिस्तीनियों को वहां से ख़त्म करने का अभियान चलाया, जिसे Black September कहा गया। जॉर्डन की सेना को पाकिस्तान ने पूरी मदद दी, उन्हें अपने देश में ट्रेनिंग दी और गोला-बारूद मुहैया कराए। पाकिस्तान के सैन्य अधिकारी जिया उल हक़ ने जॉर्डन के शाह के साथ मिलकर हज़ारों फिलिस्तीनियों को मरवा डाला। ब्रिटिश-पाकिस्तानी लेखक तारिक अली अपनी किताब में लिखते हैं कि, इजराइल ने 20 सालों में जितने फिलिस्तीनियों को नहीं मारा होगा, उससे अधिक फिलिस्तीनियों को जॉर्डन के शाह ने पाकिस्तान की मदद से महज 11 दिनों में मार डाला था। अब उसी फिलिस्तीन का आतंकी संगठन हमास, पाकिस्तान से मदद मांग रहा है, लेकिन भरोसा न पाकिस्तान का है, न फिलिस्तीन का, जो शरण देने वाले जॉर्डन के राजा को ही मारने चला था। 

गाज़ा में इजराइल ने तेज किया हमला, गोलीबारी में लेबनानी सैनिक के मारे जाने पर मांगी माफ़ी

ईरान ने अमेरिकी सेना, संयुक्त राष्ट्र के राजदूत पर हमलों में शामिल होने से इनकार किया

पाकिस्तान में खालिस्तानी आतंकी की मौत, भिंडरावाले का भतीजा था लखबीर सिंह रोडे

 

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -