अयोध्या मामले पर बोले मौलाना सलमान नदवी, कहा राम हमारे लिए पैगम्बर

लखनऊ: श्री श्री रविशंकर के साथ मिलकर अयोध्या विवाद का हल निकलने के प्रयास में लगे मौलाना सलमान नदवी का मानना है कि शरीयत मस्जिद शिफ्ट करने की अनुमति देती है। भगवान श्रीराम बहुत बड़े सोशल रिफार्मर थे, वे हमारे लिए भी पैगम्बर के समान हैं। अयोध्या विवाद को सुलझाने के अभियान में लगने के बाद मौलाना सलमान नदवी को ऑल इंडिया पर्सनल लॉ बोर्ड से निलंबन झेलना पड़ा है।

महिला दिवस के मौके पर पंजाब सरकार ने दिया यह ख़ास तोहफा

मौलाना सलमान नदवी ने कहा है कि जहां तक श्री रामचंद्र जी की शख्सियत का संबंध है, तो वे बहुत बड़े सोशल रिफॉर्मर थे और मुसलमान मानते हैं कि विश्व भर में एक लाख 24 हजार पैगंबर हुए हैं। श्री राम भी अपने वक्त के पैगबंर थे। मौलाना सलमान नदवी ने श्री श्री रविशंकर के साथ अयोध्या विवाद में समझौते का प्रयास शुरू किया था, उन्होंने कहा है कि इस्लामी शरीयत मस्जिद को स्थानांतरित करने की इजाजत देती है और श्रीराम भी हमारे लिए भी एक पैगंबर की तरह ही हैं। इसी वजह से अमन की खातिर मस्जिद के लिए दूसरी जगह जमीन लेकर समझौता कर लेना चाहिए। उन्होंने कहा है कि इस्लामी शरियत में मस्जिद को स्थानांतरित करने की इजाजत है। इसके लिए उनका दावा था कि खलीफा हजरत उमर ने कूफा शहर में एक मस्जिद को स्थानांतरित करते हुए उसकी जगह पर खजूर का बाजार बनवा दिया था। इसका मतलब है कि मस्जिद को शिफ्ट किया जा सकता है।

महिला दिवस के मौके पर पंजाब सरकार ने दिया यह ख़ास तोहफा

अयोध्या मामले में सर्वोच्च न्यायालय ने अब मध्यस्थता के लिए तीन सदस्यों की समिति बनाए जाने के फैसले पर मौलाना नदवी ने कहा है कि मुकदमा लड़ने से एक पक्ष की हार होती है तो एक की जीत। उसमें जो जीतता है वो स्वयं को विजयी मानता है किन्तु जो हराता है वो खुद को बेइज्जत महसूस करता है, लेकिन समझौते से मानवता को बढ़ावा मिलता है।

खबरें और भी:-

महिला दिवस पर महिलाओं को खुद की तरह हवा में उड़ने के लिए कह रही है यह एक्ट्रेस

2018-19 में रिकॉर्ड तोड़ेगा देश का वस्तु निर्यात स्तर

डॉलर के मुकाबले रुपये में नजर आई 26 पैसे की कमजोरी

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -