आज 8:30 से शुरू हो चुका है पुण्य काल मुहूर्त, जानिए कब होगा खत्म

By iti mishra
Jan 14 2021 09:09 AM
आज 8:30 से शुरू हो चुका है पुण्य काल मुहूर्त, जानिए कब होगा खत्म

मकर संक्रांति का पर्व बहुत अनोखा है। कहा जाता है इस दिन किए गए काम अनंत गुणा फल देते हैं। जी दरसल मकर संक्रांति को दान, पुण्य और देवताओं का दिन कहा जाता है और इस दिन दान करने से बड़ा लाभ होता है। वैसे बहुत सी जगहों पर मकर संक्रांति को 'खिचड़ी' भी कहा जाता है। वहीँ पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, मकर संक्रांति के दिन सूर्य देव अपने पुत्र शनि के घर जाते हैं। केवल यही नहीं बल्कि मकर संक्रांति से ही ऋतु परिवर्तन भी होने लगता है। कहा जाता है मकर संक्रांति से सर्दियां खत्म होने लगती हैं और वसंत ऋतु की शुरुआत होती है। आइए आज बताते हैं मकर संक्रांति की तिथि और स्नान-दान का शुभ मुहूर्त।

मकर संक्रांति की तिथि और स्नान-दान का शुभ मुहूर्त- मकर संक्रांति गुरुवार को प्रात: 8 बजकर 30 मिनट बजे से आरंभ हो चुकी है। ज्योतिष के मुताबिक यह बहुत ही शुभ समय है। इसका पुण्य काल मुहूर्त सुबह 8:30 से लेकर शाम 5 बजकर 46 मिनट तक रहने वाला है। इसके अलावा महापुण्य काल का मुहूर्त सुबह 8:30 से 10:15 तक का रहने वाला है। आप स्नान और दान-दक्षिणा जैसे कार्य इस अवधि में कर सकते हैं।

तिथि: 14 जनवरी, 2021 (गुरुवार)

पुण्य काल मुहूर्त: सुबह 8:30 से शाम 5:46 तक

महापुण्य काल मुहूर्त: सुबह 8:30 से 10:15 तक

 
मकर संक्रांति पर क्या करें - इस दिन सूर्य के बीज मंत्र का जाप करें। इसके अलावा श्रीमद्भागवद के एक अध्याय का पाठ करें या गीता का पाठ करें। इसी के साथ नए अन्न, कम्बल, तिल और घी का दान करें। ध्यान रहे भोजन में नए अन्न की खिचड़ी बनाएं और भोजन भगवान को समर्पित करके प्रसाद रूप से ग्रहण करें। शाम के समय अन्न का सेवन न करें। ध्यान रहे इस दिन किसी गरीब व्यक्ति को बर्तन समेत तिल का दान करने से शनि से जुड़ी हर पीड़ा से मुक्ति मिलती है।

तमिलनाडु में चुनावी दंगल शुरू, जल्लिकट्टु में शामिल होंगे राहुल तो पोंगल मनाएंगे नड्डा

जब लड़कियां 15 साल में प्रजनन लायक होती हैं तो शादी की उम्र 21 साल क्यों: कांग्रेस नेता

मकर संक्रांति पर इस तरह से बनाएंगे खिचड़ी तो उंगलियां चाटते रह जाएंगे लोग