'महाराष्ट्र कभी गद्दारों को माफ नहीं करता', CM शिंदे पर उद्धव ठाकरे का हमला
'महाराष्ट्र कभी गद्दारों को माफ नहीं करता', CM शिंदे पर उद्धव ठाकरे का हमला
Share:

मुंबई: देश में लोकसभा चुनाव के 4 चरणों के तहत मतदान हो चुका है। 5वें चरण के तहत 20 मई को मतदान है। सभी राजनीतिक दल चुनाव प्रचार में व्यस्त हैं। इस बीच शिवसेना (यूबीटी) के अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने महाराष्ट्र की राजनीति, चुनाव एवं विपक्षी गठबंधन पर खुलकर चर्चा की। इसके चलते उद्धव ठाकरे से पूछा गया कि महाराष्ट्र में अब तक के चुनाव में महाविकास अघाड़ी की क्या स्थिति है? इस पर उद्धव ने सीएम एकनाथ शिंदे का नाम लिए बगैर कहा कि मैं जहां-जहां जा रहा हूं, मुझे लोगों का प्यार मिल रहा है। एक बात और है कि महाराष्ट्र कभी गद्दारों को माफ नहीं करता। जिस पार्टी का निर्माण बालासाहेब ठाकरे ने किया था, उसे तोड़ने और चुराने का प्रयास करने वालों को महाराष्ट्र कभी माफ नहीं करेगा। लोगों में गुस्सा और आक्रोश हैं। इस प्रकार की भावना लोगों में नजर आ रही है।

वही यह पूछने पर कि केवल सहानुभूति से काम नहीं चलता है। आपकी योजनाएं क्या हैं? जैसे भाजपा के पास पीएम डायरेक्ट ट्रांसफर की योजना है, जिसके बड़े स्तर पर लोग लाभार्थी हैं। इस पर उद्धव ठाकरे ने कहा कि डायरेक्ट ट्रांसफर की योजना है ना। प्रवर्तन निदेशालय का नोटिस जाता है तो आदमी सीधे ट्रांसफर होता है भाजपा में और इसका लाभार्थी होती है भाजपा। ये है डायरेक्ट ट्रांसफर और लाभार्थी की योजना। उन्होंने कहा कि यदि भाजपा के उम्मीदवारों की सूची देखें तो मेरी जानकारी के अनुसार, तकरीबन 125 लोग कांग्रेस से भाजपा में आए हैं। सिर्फ मुंबई की ही बात करें तो 6 में से 4 जगह पर बाहर से लाए गए प्रत्याशी हैं। 

उद्धव ठाकरे से जब देवेंद्र फडणवीस से जुड़ा सवाल पूछा गया तो उन्होंने दो टूक कहा कि मेरी लड़ाई देवेंद्र से नहीं है। मेरी लड़ाई दिल्ली में बैठे तानाशाह से है। देवेंद्र पहले अवश्य मुख्यमंत्री थे। मुख्यमंत्री के पद से हटने के बाद उन्होंने नारा दिया कि मैं वापस आऊंगा। वो वापस आए हैं लेकिन चपरासी बनकर। मैं ऐसे नेताओं को क्या जवाब दूं। वो मेरे कारण ही 5 वर्ष सत्ता में बैठे थे। भाजपा से गठबंधन के सवाल पर उद्धव ने कहा कि मैं कभी किसी तानाशाह का समर्थन नहीं करूंगा। उन्होंने मुझे और शिवसेना को खत्म करने का प्रयास किया। क्या मैं उनके साथ जा सकता हूं? ये चुनाव मेरे लिए नहीं बल्कि भाजपा के लिए करो या मरो का है। मेरे पिता ने कहा था कि कभी अपनी जुबान से मत पलटना। यह पूछने पर कि क्या वह दोबारा सीएम का पद स्वीकार करेंगे? इस पर उद्धव ठाकरे ने कहा कि मैं इसके सपने नहीं देखता मगर मैं अपनी जिम्मेदारी से पीछे नहीं हटूंगा। वे हिंदू-मुस्लिम करते हैं। उन्होंने मुसलमानों का डर दिखाया है। मगर हम मुस्लिमों को साथ लेकर चलते हैं।

उद्धव ठाकरे ने कहा कि हमारे साथ धोखा हुआ है। लोगों को भी ठगा गया है। हम असली शिवसेना है। पीएम अपने दिल से पूछकर देखें कि असली शिवसेना कौन सी है, उन्हें जवाब मिल जाएगा। भविष्य में दोबारा महाराष्ट्र का सीएम बनने के सवाल पर उद्धव ने कहा कि मैं मुख्यमंत्री का सपने देखने वालों में से नहीं हूं। जब मैंने अपने करियर की शुरुआत की थी तो लोग बोलते थे कि मुझे भाषण देना भी नहीं आता है। मैंने मान लिया था कि मुझे भाषण देना नही आता। मेरे दादा-पिता ने कहा था कि तू कभी भाषण नहीं देना, लोगों से बात कर। मैं दिल से बात करता हूं। मैं मन की बात नहीं करता, दिल की बात करता हूं। मन सोचता है, दिल सोचता नहीं है। उद्धव ठाकरे ने बोला कि फिलहाल तो हमें भारत माता को तानाशाही तथा जुमलेबाजी से बचाना है।  

'जज साहब चुनाव..', कहते रह गए कपिल सिब्बल, सुप्रीम कोर्ट ने हेमंत सोरेन की जमानत पर टाल दी सुनवाई !

पीड़ित महिलाओं को बयान बदलने के लिए धमका रहे TMC के गुंडे ! अब संदेशखाली में खुद कैंप लगाएगी CBI, तैनात होगा केंद्रीय बल

केजरीवाल को जमानत देने वाले जस्टिस संजीव खन्ना होंगे देश के अगले CJI, जानिए उनके बारे में सबकुछ

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -