मां ब्रह्मचारिणी को करना है खुश तो ये रहे मंत्र, कवच और आरती

आज शारदीय नवरात्रि का दूसरा दिन है और इस दिन माता ब्रह्मचारिणी का पूजन किया जाता है।  कहा जाता है माता को खुश करने के लिए शक्कर का भोग लगाया जाता है। अब आज हम आपको बताने जा रहे हैं मां ब्रह्मचारिणी को खुश करने के लिए मंत्र, कवच और आरती।

मां ब्रह्मचारिणी का मंत्र (Maa Brahmacharini Mantra)
वन्दे वांछित लाभायचन्द्रार्घकृतशेखराम्।
जपमालाकमण्डलु धराब्रह्मचारिणी शुभाम्॥
गौरवर्णा स्वाधिष्ठानस्थिता द्वितीय दुर्गा त्रिनेत्राम।
धवल परिधाना ब्रह्मरूपा पुष्पालंकार भूषिताम्॥
परम वंदना पल्लवराधरां कांत कपोला पीन।
पयोधराम् कमनीया लावणयं स्मेरमुखी निम्ननाभि नितम्बनीम्॥

नवरात्रि स्पेशल: नोएडा की ऐसी माँ की कहानी जो नम कर देगी आँखें

माँ ब्रह्माचारिणी कवच (Maa Brahmacharini Kavach)
त्रिपुरा में हृदयेपातुललाटेपातुशंकरभामिनी।
अर्पणासदापातुनेत्रोअर्धरोचकपोलो॥
पंचदशीकण्ठेपातुमध्यदेशेपातुमहेश्वरी॥
षोडशीसदापातुनाभोगृहोचपादयो।
अंग प्रत्यंग सतत पातुब्रह्मचारिणी॥

नवरात्रि का दूसरा दिन: 1000 साल तक माता ने खाए थे फल, 3000 साल तक सिर्फ बेलपत्र

माँ ब्रह्माचारिणी की आरती (Maa Brahmacharini Aarti)
जय अंबे ब्रह्माचारिणी माता।
जय चतुरानन प्रिय सुख दाता।
ब्रह्मा जी के मन भाती हो।
ज्ञान सभी को सिखलाती हो।
ब्रह्मा मंत्र है जाप तुम्हारा।
जिसको जपे सकल संसारा।
जय गायत्री वेद की माता।
जो मन निस दिन तुम्हें ध्याता।
कमी कोई रहने न पाए।
कोई भी दुख सहने न पाए।
उसकी विरति रहे ठिकाने।
जो तेरी महिमा को जाने।
रुद्राक्ष की माला ले कर।
जपे जो मंत्र श्रद्धा दे कर।

नवरात्र में खाना है मीठा तो बनाए लौकी की खीर

नवरात्रि पर दिखना है सबसे अलग और बेहतरीन तो इन अभिनेत्रियों को करें कॉपी

दुर्गा पूजा के लिए मंदिर जा रहे 24 हिंदू श्रद्धालुओं की मौत, बीच नदी में पलटी नाव

न्यूज ट्रैक वीडियो

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -