गणेश जी की इस पूजा से सुधारे घर का वास्तु

सभी के विघ्नों का नाश करने के कारण ही गणेश भगवान को विघ्नहर्ता कहा जाता है. उनके कई नाम,रूप और कलाएं है परन्तु अपने भक्तों के दुखों को दूर कर खुशहाली प्रदान करने के लिए वह बहुत ही दयावान देव है.

ऐसा कहा जाता है कि भगवान गणेश को मोदक, मूसक और दूर्वा बेहद प्रिय है और जो भी प्राणिमात्र सच्चे मन से अपनी तकलीफ उनसे बताता है वह उसको जड़ से हटा कर दूर कर देते है. 
 


ऐसी मान्यता है कि जिस घर में भी वास्तुदोष या अन्य कोई कारण से तनाव, दरिद्रता या नकारात्मकता रहती है वहाँ भगवान गणेश की नियमित पूजा करने से  पूजा वंदना करते है वहां सारी परेशानी ख़त्म हो जाती है.

भगवान श्रीगणेश की उपासना से सभी कार्य सिद्ध होते है और घर में खुशहाली आती है.वास्तु दोष के लिए घर में क्रिस्टल से बनी गणपति की मूर्ति की स्थापना करना शुभ होता है. 

घर के वास्तुदोष को दूर करने और घर में सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह बनाने के लिए  मुख्य दरवाजे पर आम, पीपल और नीम से बनी भगवान श्रीगणेश की मूर्ति लगाना शुभ होता है साथ दूसरी तरफ ठीक उसी जगह पर श्रीगणेश की मूर्ति इस प्रकार लगाएं कि दोनों गणेशजी की पीठ मिली रहे. ऐसा इसलिए क्योंकि कहा जाता है की गणेश जी के पीठ के पीछे दरिद्रता और आलस्य होता है.

पक्षियों को पानी पिलाने से मिटते है ये पाप

रमज़ान में रोज़दार पढ़ते है क़ुरान की इन आयतों को

इन कर्मों को करने से मिलती है पापों से मुक्ति

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -